*** लाइव एसकेजी न्यूज़ पर आप अपने लेख, कविताएँ भेज सकते है सम्पर्क करें 9410553400, ऑफिस 01332224100 हमारी ईमेल है liveskgnews@gmail.com *** *** लाइव एसकेजी न्यूज़ पर आप अपने लेख, कविताएँ भेज सकते है सम्पर्क करें 9410553400 हमारी ईमेल है liveskgnews@gmail.com *** *** सेमन्या कण्वघाटी समाचार पत्र, www.liveskgnews.com वेब न्यूज़ पोर्टल व liveskgnews मोबाइल एप्प को उत्तराखंड, उत्तर प्रदेश, मध्यप्रदेश राजस्थान, दिल्ली सहित पुरे भारत में जिला प्रतिनिधियों, ब्यूरो चीफ व विज्ञापन प्रतिनिधियों की आवश्यकता है. सम्पर्क 9410553400 *** *** सभी प्रकाशित समाचारों एवं लेखो के लिए सम्पादक की सहमती जरुरी नही है, किसी भी वाद विवाद की स्थिति में न्याय क्षेत्र हरिद्वार न्यायालय में ही मान्य होगा . *** *** लाइव एसकेजी न्यूज़ के मोबाइल एप्प को डाउनलोड करने के लिए गूगल प्ले स्टोर से सर्च करे liveskgnews ***

बस्ती के बीच बने ट्रेचिंग ग्राउंड की गंदगी पर रतनपुर के लोगों ने एसडीएम को सौंपा ज्ञापन, शीघ्र समाधान न होने पर आंदोलन की दी धमकी

16-01-2020 19:36:03 By: एडमिन

कोटद्वार । कोटद्वार नगर निगम के अंतर्गत झूलापुल बस्ती और रतनपुर के सैकड़ों ग्रामीणों ने बस्ती के बीचोबीच स्थित कूड़ा निस्तारण केंद्र ट्रेचिंग ग्राउंड में भारी गंदगी और पशुओं के सड़े गले शव और उससे दुर्गंध फैलने को लेकर कोटद्वार नगर निगम पर ग्रामीणों ने कूड़ा निस्तारण केंद्र पर गैर जिम्मेदारी बरतने का आरोप लगाया ।

 

ग्रामीणों ने कुडे की गाड़ियां को रोककर जोरदार प्रदर्शन भी किया। बताते चलें कि टचिंग ग्राउंड जहां पर स्थित है,इसके एक तरफ राजकीय स्पोर्ट्स स्टेडियम व झूलापुल बस्ती तो वहीं दूसरी तरफ रतनपुर स्थित है । ग्रामीण विगत 10- 15 साल से इस कूड़ा निस्तारण केंद्र को अन्यत्र हटाने की मांग कर रहे है, लेकिन इस पर पूर्व की नगर पालिका और वर्तमान का नगर निगम चुप्पी साधे हुए है। कई बार ग्रामीणों और नगरपालिका के बीच इस समस्या को लेकर बड़ा संग्राम भी हुआ है।

 

मंगलवार को रतनपुर और झूलापुल बस्ती के लोगों ने कोटद्वार के एसडीएम,एवम् वर्तमान में निगम के आयुक्त का कार्यभार देख रहे योगेश सिंह मेंहरा से मिलकर समस्या के समाधान के लिए ज्ञापन सौंपा, और चेतावनी दी कि अगर शीघ्र समस्या का समाधान नहीं हुआ तो वे आंदोलन को बाध्य होंगे। ग्रामीणों ने बताया कि ट्रेचिंग ग्राउंड के पास 16-17 गायें भी मरी पड़ी है, कई बार नगर निगम की गाड़ियों में जानवरों को उठाकर यहां फेंक दिया जाता है, जबकि जानवरों को निगम के द्वारा गड्ढा खोदकर दफनाया जाना चाहिए जिससे कि निगम क्षेत्र के अंतर्गत कहीं भी गंदगी न फैले।परंतु यह सब निगम द्वारा नहीं किया जा रहा है।