*** लाइव एसकेजी न्यूज़ पर आप अपने लेख, कविताएँ भेज सकते है सम्पर्क करें 9410553400, ऑफिस 01332224100 हमारी ईमेल है liveskgnews@gmail.com *** *** लाइव एसकेजी न्यूज़ पर आप अपने लेख, कविताएँ भेज सकते है सम्पर्क करें 9410553400 हमारी ईमेल है liveskgnews@gmail.com *** *** सेमन्या कण्वघाटी समाचार पत्र, www.liveskgnews.com वेब न्यूज़ पोर्टल व liveskgnews मोबाइल एप्प को उत्तराखंड, उत्तर प्रदेश, मध्यप्रदेश राजस्थान, दिल्ली सहित पुरे भारत में जिला प्रतिनिधियों, ब्यूरो चीफ व विज्ञापन प्रतिनिधियों की आवश्यकता है. सम्पर्क 9410553400 *** *** सभी प्रकाशित समाचारों एवं लेखो के लिए सम्पादक की सहमती जरुरी नही है, किसी भी वाद विवाद की स्थिति में न्याय क्षेत्र हरिद्वार न्यायालय में ही मान्य होगा . *** *** लाइव एसकेजी न्यूज़ के मोबाइल एप्प को डाउनलोड करने के लिए गूगल प्ले स्टोर से सर्च करे liveskgnews ***

दबंगों द्वारा किया जा रहा सरकारी तालाब पर अबैध कब्जा

13-01-2020 19:06:50 By: एडमिन

सुलतानपुर (रविन्द्र):  सूबे के मुख्यमंत्री व जिलाधिकारी के सख्त निर्देशों को दर किनार करते हुए क्षेत्र में ग्रामप्रधानों से मिली भगत कर दबंगों द्वारा आये दिन ग्रामसभा में सरकारी जमीनों पर अबैध निर्माण कर कब्जा किया जा रहा है। चाहे वह तालाब हो या फिर झाड़ी जंगल, खलिहान व कब्रस्तान हो। उनको तो सरकारी जमीन पर कब्जा कर निर्माण करने से मतलब रहता है।

 

हम बात कर रहे हैं, विकास खंड कूरेभार के दाखिनवरा ग्राम पंचायत के पाठक के पु रवा की । जहां पर प्रधान से मिलीभगत के चलते  दबंगों ने  सरकारी खुदे तालाब को ही निशाना बनाकर उसमें ट्रैक्टर ट्राली से मिट्टी गिराकर अबैध रूप से कब्जा किया जा रहा है। यही नहीं सरकारी तालाब को पाट कर उसमें शौचालय व हैंड पम्प भी लगा लिया है।तथा आगे भी मिट्टी गिरा कर समतली करण जारी है।   ग्रामीणों ने जिसकी लिखित शिकायत देकर उप जिलाधिकारी को अवगत कराया है।

 

बताते चलें ग्रामीणों ने इसी तरह से 2015 में भी नरसिंह नारायण तिवारी, सत्य नारायण, भल्लू तथा रामदयाल सुतगण रामकल्प तिवारी के खिलाफ सरकारी तालाब को कब्जाए जाने के संबंध में लखित शिकायत दर्ज कराई थी। जिसमें तत्कालीन उप जिलाधिकारी के आदेश पर राजस्व विभाग ने मौके पर जाकर रोंक लगा दिया था। ग्रामीणों में इस तरह सरकारी तालाब को पाट कर कब्जा करने को लेकर दबंगों और ग्राम प्रधान राम मूर्ति सरोज के खिलाफ काफी आक्रोश व्याप्त है। इस बाबत जब हल्का लेख पाल स्वदेश सिंह से दूरभाष पर बात करने की कोशिश की गई, तो बार बार  फोन करने पर भी उनका फोन नहीं उठा।