ब्रेकिंग न्यूज़ !
    *** लाइव एसकेजी न्यूज़ पर आप अपने लेख, कविताएँ भेज सकते है सम्पर्क करें 9410553400 हमारी ईमेल है liveskgnews@gmail.com *** *** सेमन्या कण्वघाटी समाचार पत्र, www.liveskgnews.com वेब न्यूज़ पोर्टल व liveskgnews मोबाइल एप्प को उत्तराखंड, उत्तर प्रदेश, मध्यप्रदेश राजस्थान, दिल्ली सहित पुरे भारत में जिला प्रतिनिधियों, ब्यूरो चीफ व विज्ञापन प्रतिनिधियों की आवश्यकता है. सम्पर्क 9410553400 *** *** सभी प्रकाशित समाचारों एवं लेखो के लिए सम्पादक की सहमती जरुरी नही है, किसी भी वाद विवाद की स्थिति में न्याय क्षेत्र हरिद्वार न्यायालय में ही मान्य होगा . *** *** लाइव एसकेजी न्यूज़ के मोबाइल एप्प को डाउनलोड करने के लिए गूगल प्ले स्टोर से सर्च करे liveskgnews ***

    राष्ट्र सेविका समिति का प्रशिक्षण वर्ग का आयोजन

    07-06-2019 19:20:39

    रूडकी : राष्ट्र सेविका समिति उत्तराखंड का प्रशिक्षण वर्ग 1 से 15 जून तक आनंद स्वरूप आर्य सरस्वती विद्या मंदिर रुड़की में आयोजन हो रहा  है . जिसमें गढ़वाल एवं कुमाऊं मंडल के प्रत्येक जनपद से 14 से 40 आयु वर्ग की 176 से सेविकाए एक निर्धारित दिनचर्या ,पाठ्यक्रम एवं अनुशासन में 15 दिवसीय आवासीय प्रशिक्षण प्राप्त कर रही हैं .

    प्रांत कार्यवाहीका डॉ भावना ने जानकारी हेतु देते हुए कहा कि प्रशिक्षण वर्ग में योग ,आसन ,खेल ,दंड नियुद्ध, सूर्य नमस्कार समता, घोष, योगचाप, आचार पद्धति द्वारा सेविकाओं के शारीरिक बौद्धिक विकास अर्थात सर्वागीण विकास किया जाता है .  तथा प्रार्थना से सुशीलता ,सुधीर ,समर्थता ग्रहण करती हैं .  अपने पिता ,भाई ,पति, पुत्र के लिए मार्गदर्शक बनकर तेजस्वी हिंदू राष्ट्र का निर्माण करने वाली बने |

    समिति की स्थापना 1936 में लक्ष्मीबाई केलकर द्वारा वृद्धा में की गई थी .  उन्होंने बताया कि देश में समिति की 2500 शाखओं के द्वारा लाखो सेविकाए जुड़ी हुई हैं .  देश में 40 पूर्णकालिक परचारिका तथा 70 विसतारिका राष्ट्र सेविका समिति के प्रचार के प्रवास पर हैं |प्रतिवर्ष प्राथमिक शिक्षा वर्ग, प्रवेशिका वर्ग, प्रबोध वर्ग ,तथा प्रवीण वर्ग देश में लगाए जाते हैं .  तीन वर्ष अंतराल पर विदेश विभाग हेतु प्रशिक्षण वर्ग लगाए जाते हैं. दस वर्ष के अंतराल पर राष्ट्रीय स्तर पर सेविकाओं का समागम किया जाता है .  विदेश में हिंदू सेविका समिति के नाम से 22 देशों में कार्य करती हैं .  देश में 44 छात्रावास विद्यालय वनवासी महिलाओं हेतु तथा 175 चिकित्सालय समिति द्वारा चलाए जा रहे हैं .  बौद्धिक सत्र को संबोधित करते हुए संघ के प्रांत प्रचारक युद्धवीर जी द्वारा कहा कि देश की आबादी का 50% बहिने हैं यदि महिलाए शिक्षित ,संस्कारित ,और स्वस्थ एवं स्वावलंबी होकर समाज में अपनी महत्वपूर्ण भूमिका का निर्वहन करेंगी तो भारत परम वैभव पर पहुंचेगा|