ब्रेकिंग न्यूज़ !
    *** लाइव एसकेजी न्यूज़ पर आप अपने लेख, कविताएँ भेज सकते है सम्पर्क करें 9410553400 हमारी ईमेल है liveskgnews@gmail.com *** *** सेमन्या कण्वघाटी समाचार पत्र, www.liveskgnews.com वेब न्यूज़ पोर्टल व liveskgnews मोबाइल एप्प को उत्तराखंड, उत्तर प्रदेश, मध्यप्रदेश राजस्थान, दिल्ली सहित पुरे भारत में जिला प्रतिनिधियों, ब्यूरो चीफ व विज्ञापन प्रतिनिधियों की आवश्यकता है. सम्पर्क 9410553400 *** *** सभी प्रकाशित समाचारों एवं लेखो के लिए सम्पादक की सहमती जरुरी नही है, किसी भी वाद विवाद की स्थिति में न्याय क्षेत्र हरिद्वार न्यायालय में ही मान्य होगा . *** *** लाइव एसकेजी न्यूज़ के मोबाइल एप्प को डाउनलोड करने के लिए गूगल प्ले स्टोर से सर्च करे liveskgnews ***

    भारत में जन्म लेना पुण्य कर्मों का फल - इंद्रेश कुमार

    09-06-2019 18:13:32

    रूडकी : बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ बेटी बढ़ाओ बेटी से देश बेटी से देश बढ़ाओ भारत में जन्म लेना पुण्य कर्मों का फल है.  राम,कृष्ण, महावीर बुद्ध का जन्म भी भारत भूमि में हुआ 90 वर्ष के शासन में अंग्रेजों ने सात विभाजन करा कर  9 देश बनाए उक्त विचार राष्ट्रीय मुस्लिम मंच के संस्थापक इंद्रेश कुमार द्वारा आनंद स्वरूप सरस्वती विद्या मंदिर रुड़की में आयोजित 15 दिवसीय आवासीय वर्ग की सेविकाओं को संबोधित करते हुए कहा कि प्राचीन ग्रंथों में भारत के दक्षिण में समुद्र तथा उत्तर में हिमालय के भूभाग को अखंड भारत कहा गया है जिसका क्षेत्रफल 83 लाख वर्ग किलोमीटर है जिससे 54 देशों का निर्माण हुआ , अंग्रेजों ने 90 वर्ष के शासन में 7 विभाजन करा कर 9 देशों का निर्माण कराया 1947 में देश बटा वर्तमान में 31.5 लाख वर्ग किलोमीटर क्षेत्रफल भारत का बचा है. 

    देश को आर्यव्रत , भारत, हिंदुस्तान, हिंद, इंडिया इन 5 नामों से जाना जाता है.  इसके अनुसार ही यहां की निवास निवासी आर्य, भारतीय ,हिंदुस्तानी, हिंदू, इंडियन से जाने जाते हैं भारत सोने की चिड़िया तथा विश्व गुरु रहा है. राज्य व्यवस्था एवं सामाजिक  व्यवस्थाओं के कारण चोरी ना होने के कारण कोई ताला नहीं लगाता था, सभी के लिए भोजन की व्यवस्था के कारण भिखारी नहीं था और असहायो कि जीवन यापन हेतु धार्मिक स्थल थे. 

    सभी के लिए रहने के लिए मकान थे कोई फुटपाथ पर नहीं सोता था, पूजा स्थल सोने चांदी से मढ़े रहते थे.  इस कारण भारत सोने की चिड़िया था. हिमालय पर्वत में सर्वाधिक तप ज्ञान, साधना का अभ्यास के गुण मिलते हैं . पवित्र नदी गंगा तथा विश्व की धरती के भूगोल में भारत को भारत माता कहते हैं.  भगवान के पास प्रथम सत्य मां है इसलिए भगवान भी मां की गोद या कोख में आए थे. 

    भारतीय संस्कृति वसुदेव कुटुंबकम तथा सर्वे भवंतु सुखिन: सर्वे संतु निरामया जीवो पर दया करो का भाव रखती है.  नारी का सम्मान सर्वोच्च है . इसी के लिए सीता हरण के कारण राम रावण युद्ध हुआ ,चीरहरण के कारण महाभारत हुआ वर्तमान में समाज में अनेक समस्याएं हैं,जिनमें भ्रूण हत्या, तलाक, घरेलू हिंसा, विवाह में सौदेबाजी उन्होंने सेविकाओ से हाथ उठवाकर प्रतिज्ञा कराई की समाज में छुआछूत का भेदभाव नहीं करेंगे, समाज सुधार के लिए स्वयं जागृत रहकर समाज को भी जागृत करेंगे. 13 जून को रुड़की नगर में स्वयं सेविकाओं द्वारा नेहरू स्टेडियम से पथ संचलन निकाला जाएगा जो मुख्य स्थानों से होता हुआ नेहरू स्टेडियम में समापन होगा.