ब्रेकिंग न्यूज़ !
    *** लाइव एसकेजी न्यूज़ पर आप अपने लेख, कविताएँ भेज सकते है सम्पर्क करें 9410553400 हमारी ईमेल है liveskgnews@gmail.com *** *** सेमन्या कण्वघाटी समाचार पत्र, www.liveskgnews.com वेब न्यूज़ पोर्टल व liveskgnews मोबाइल एप्प को उत्तराखंड, उत्तर प्रदेश, मध्यप्रदेश राजस्थान, दिल्ली सहित पुरे भारत में जिला प्रतिनिधियों, ब्यूरो चीफ व विज्ञापन प्रतिनिधियों की आवश्यकता है. सम्पर्क 9410553400 *** *** सभी प्रकाशित समाचारों एवं लेखो के लिए सम्पादक की सहमती जरुरी नही है, किसी भी वाद विवाद की स्थिति में न्याय क्षेत्र हरिद्वार न्यायालय में ही मान्य होगा . *** *** लाइव एसकेजी न्यूज़ के मोबाइल एप्प को डाउनलोड करने के लिए गूगल प्ले स्टोर से सर्च करे liveskgnews ***

    महाबगढ़ मंदिर परिसर बना रहा शरारती तत्वों का अड्डा

    01-06-2019 17:19:21

    भगत सिंह संगठन ने मन्दिर समिति से की मन्दिर परिसर में व्यवस्था बनाने की मांग
    कोटद्वार ( योगेश चौहान)।
    कोटद्वार शहर से 65 किलो मीटर दूर यमकेश्वर विधानसभा में स्थित 52 गढ़ो में शामिल भगवान भोलेनाथ की तपोस्थली में महाबगढ़ मन्दिर स्थित है।आस्था के इस केंद्र में आये दिन श्रद्धलुओं का तांता लगा रहता है।श्रद्धालु अपनी मनोकामना को लेकर बाबा भोलेनाथ के इस पावन भूमि पर आते है और मन इच्छा फल मांगते है।लेकिन जाते वक्त वो नजारा भी देख जाते जो मन्दिर समिति की व्यवस्था की पोल खोल के रख देती है।

    जिस पर सरदार भगत सिंह संगठन कोटद्वार के अध्यक्ष मनोज सौन्द, पुरोहित प्रमोद शास्त्री, प्रियांशू नेगी, प्रशांत चौधरी ने बताया की आस्था के इस पावन मन्दिर में जब वो गये तो वहाँ की व्यवस्था की स्थिति को देख उन्हें मायूस होना पड़ा। उन्होंने बताया कि मंदिर की स्थिति बद से बत्तर होती जा रही है। मन्दिर परिसर में बने धर्मशाला की स्थिति दयनीय बनी हुई है  दीवारों पर असमाजिक तत्वों ने अश्लील बाते लिखी गई। जो कही न कहीं इस महाबगढ़ मन्दिर की स्वच्छ वातावरण को बिगाड़ रहे है। ऊपर मंदिर की ओर मुख्य मार्ग से जाने वाले रास्तो पर प्लास्टिक की बोतलें पॉलीथिन युहीं पड़ी हुई है मिलती है।

    मन्दिर परिसर के इर्दगिर्द लगे पेड़ो पर मनचलों द्वारा  आस्था के विपरीत गलत आकृतियां बनाई जो आने वाले पर्यटकों को गलत संदेश देती है।वहीं महाबगढ़ मन्दिर समिति के अध्यक्ष नत्थी सिंह नेगी का कहना है सरकार की ओर से मन्दिर समिति के रखरखाव लिए कोई भी धन आवंटन नही होता है । मन्दिर समिति द्वारा ही दो व्यक्तियों को मन्दिर की रेखदेख के लिए तैनात किया हुआ। जो भी मन्दिर से दान के रूप में आय होती है उसको मन्दिर के सौंदर्यीकरण में लगाया जाता है। सरदार भगत सिंह संगठन द्वारा संज्ञान दिलवाया गया है कि इस तरह से मन्दिर परिसर को दूषित किया जा रहा है। जिस पर मन्दिर समिति संज्ञान लेते हुए मन्दिर में असामाजिक तत्वों द्वारा जो दीवारों पर लिखा गया है उन्हें साफ करेंगी। उन्होंने बताया कि गांव के लोगो द्वारा ही मन्दिर को सम्भाला व सँवारा जाता है। यदि कोई असामाजिक तत्व मन्दिर परिसर को दूषित करने में पकड़ा गया तो उस पर मन्दिर समिति उचित कार्यवाही करेगा।