धूमधाम से मनाया गंगा दशहरा

Publish 11-06-2019 20:53:10


धूमधाम से मनाया गंगा दशहरा

लखनऊ /उत्तर प्रदेश( रघुनाथ प्रसाद शास्त्री): हर साल की ज्येष्ठ मास की दशमी तिथि को गंगा दशहरा मनाया जाता है. मान्यता है कि गंगा दशहरा के खास मौके पर गंगा स्नान करने से व्यक्ति के 10 तरह के पाप नष्ट हो जाते हैं.ज्येष्ठ मास की दशमी तिथि को हर वर्ष गंगा दशहरा मनाया जाता है। 12 जून बुधवार को  गंगा दशहरा मनाया जा रहा है। मान्यता है कि गंगा दशहरा के दिन मां गंगा धरती पर उतरी थीं जिसके बाद से ही मां गंगा की पूजा करने की परंपरा शुरू हो गई. कहा जाता है कि गंगा दशहरा वाले दिन स्नान और दान करने से व्यक्ति के सभी पाप धुल जाते हैं और भक्तों की सभी परेशानियां दूर हो जाती है. इस वर्ष आज के दिन गंगा दशहरा, गायत्री जयंती और रामेश्वर प्रतिष्ठा दिवस यानी तीन महाशक्तियों का संयोग बन रहा है। ऐसे में इस दिन गंगा, नदी, कूप, तालाब में स्नान करने से 10 प्रकार के पाप नष्ट हो जाते हैं. गंगा दशहरा के खास मौके पर अगर कोई व्यक्ति गंगा स्नान नहीं कर सकता वह जल में गंगा जल मिलाकर तुलसी, शमी पत्र, बेल पत्र, दूरबा डालकर स्नान करें. माना जाता है कि इससे रोग, दोष, संताप और घर की बाधाएं दूर हो जाती हैं. इसके साथ ही इस दिन अगर भोलेनाथ पर एक लोटा चढ़ चढ़ाएं तो लक्ष्मी का वास होता है.
जानिए कौन से 10 पापों से मुक्ति दिलाता है गंगा स्नान
गंगा दशहरा के मौके पर गंगा ध्यान एंव स्नान से व्यक्ति के दस तरह के दोष- कामस, क्रोध, लोभ, मोह, मत्सर, ईर्ष्या, ब्रह्महत्या, छल, कपट, परनिंदा जैसे पापों से मुक्त होता जाता है. साथ ही इस दिन गंगा स्नान से अकारण जीवों को कष्ट पहुंचाने, अवैध संबंध, असत्य बोलने व धोखा देने से जो पाप व्यक्ति पर लगता है, वो भी दूर हो जाता है.

जानिए गंगा दशहरा पर गंगा स्नान का महामंत्र
 ज्योतिष के जानकार रघुनाथ प्रसाद शास्त्री ने बताया गंगा दशहरा के पावन पर्व पर भक्तों को स्नान करते समय मां गंगा का इस मंत्र के द्वारा ध्यान करें- ‘विष्णु पादार्घ्य सम्भूते गंगे त्रिपथगामिनी! धर्मद्रवीति विख्याते पापं मे हर जाह्नवी।’

जानिए गंगा दशहरा पर गंगा में डुबकी लगाने का मंत्र
गंगा दशहरा के पवित्र पर्व में गंगा में डुबकी लगाते समय श्रीहरि के बताए गए इस सर्व पापहारी मंत्र को जपने से व्यक्ति को तत्क्षण लाभ मिलता है- ॐ नमो गंगायै विश्वरूपिण्यै नारायण्यै नमो नमः

To Top