ब्रेकिंग न्यूज़ !
    *** लाइव एसकेजी न्यूज़ पर आप अपने लेख, कविताएँ भेज सकते है सम्पर्क करें 9410553400 हमारी ईमेल है liveskgnews@gmail.com *** *** सेमन्या कण्वघाटी समाचार पत्र, www.liveskgnews.com वेब न्यूज़ पोर्टल व liveskgnews मोबाइल एप्प को उत्तराखंड, उत्तर प्रदेश, मध्यप्रदेश राजस्थान, दिल्ली सहित पुरे भारत में जिला प्रतिनिधियों, ब्यूरो चीफ व विज्ञापन प्रतिनिधियों की आवश्यकता है. सम्पर्क 9410553400 *** *** सभी प्रकाशित समाचारों एवं लेखो के लिए सम्पादक की सहमती जरुरी नही है, किसी भी वाद विवाद की स्थिति में न्याय क्षेत्र हरिद्वार न्यायालय में ही मान्य होगा . *** *** लाइव एसकेजी न्यूज़ के मोबाइल एप्प को डाउनलोड करने के लिए गूगल प्ले स्टोर से सर्च करे liveskgnews ***

    जिला विकास प्राधिकरण के नियमों का विरोध

    07-06-2019 18:58:27

    कोटद्वार । शुक्रवार को भाबर में आयोजित कांग्रेस कार्यकर्ताओं की एक बैठक में कहा गया कि जिला विकास प्राधिकरण कोटद्वारवासियों के लिए सिरदर्द बना हुआ है। प्राधिकरण के पेचीदा नियमों के चलते लोगों के लिए घर बनाना मुश्किल हो रहा है। उन्होंने कहा कि झण्डीचौड़ पश्चिमी में प्राधिकरण ने गरीब लोगों को नोटिस भेज दिये हैं। आरोप लगाये कि अधिकारी प्राधिकरण के नाम पर जनता का उत्पीड़न कर रहे हैं। जबकि प्रदेश सरकार ने कोटद्वार नगर निगम क्षेत्र में 10 साल तक टैक्स न लगाने की घोषणा की थी।झंडीचौड़ में पूर्व प्रधान कृष्णचन्द्र खंतवाल की अध्यक्षता में आयोजित बैठक में वक्ताओं ने कहा कि दिसम्बर 2017 में बना जिला विकास प्राधिकरण शहरवासियों के लिए मुसीबत बन गया है। विकास प्राधिकरण के नाम पर प्रदेश सरकार मूलभूत सुविधाओं को देने के बजाय कोटद्वार नगर निगम क्षेत्र में विभिन्न टैक्स लगाकर लोगों का उत्पीड़न कर रही है। उन्होंने कहा कि बेहतर शिक्षाए स्वास्थ्य और रोजगार की चाह में ग्रामीण क्षेत्र से कोटद्वार भाबर का रुख कर रहे हैं लेकिन कड़े कानून और मोटा शुल्क निर्माण की राह में रोड़ा बना है। इसको लेकर लोगों में नाराजगी है। उन्होंने कहा कि सरकार का वित्तीय प्रबंधन प्रदेश के विकास के लिए संतुलित नहीं है। राज्य कर्मचारियों अधिकारियों का वेतन भत्तों व पेंशन और पुराने कर्ज का ब्याज चुकाने के लिए कर्ज लेना इस सरकार की मजबूरी हो चुकी है। कहा कि राज्य सरकार आय के नये संसाधन विकसित तो नहीं कर पा रही हैए लेकिन प्राधिकरण के नियम अत्यन्त अव्यवहारिक बनाकर सरकार ने राजस्व वसूली का सबसे बड़ा जरिया बना दिया है।बैठक में हयात सिंह मेहरा शशि भूषण रामप्रकाश रमेश पूर्व प्रधान पूरन चन्द्र शर्मा सुरेन्द्र सिंह लक्ष्मी देवीए वीरेन्द्र पाल सिंह मान सिंह महावीर सिंह सरोज देवी देवेन्द्र सिंह हरेन्द्र सिंह रावत कृपाल सिंह मेहरा आदि मौजूद थे।