*** लाइव एसकेजी न्यूज़ पर आप अपने लेख, कविताएँ भेज सकते है सम्पर्क करें 9410553400 हमारी ईमेल है liveskgnews@gmail.com *** *** सेमन्या कण्वघाटी समाचार पत्र, www.liveskgnews.com वेब न्यूज़ पोर्टल व liveskgnews मोबाइल एप्प को उत्तराखंड, उत्तर प्रदेश, मध्यप्रदेश राजस्थान, दिल्ली सहित पुरे भारत में जिला प्रतिनिधियों, ब्यूरो चीफ व विज्ञापन प्रतिनिधियों की आवश्यकता है. सम्पर्क 9410553400 *** *** सभी प्रकाशित समाचारों एवं लेखो के लिए सम्पादक की सहमती जरुरी नही है, किसी भी वाद विवाद की स्थिति में न्याय क्षेत्र हरिद्वार न्यायालय में ही मान्य होगा . *** *** लाइव एसकेजी न्यूज़ के मोबाइल एप्प को डाउनलोड करने के लिए गूगल प्ले स्टोर से सर्च करे liveskgnews ***

विभाग पर लगाया लापरवाही का आरोप, तालाबंदी की दी चेतावनी

24-06-2019 21:00:59

कोटद्वार। गणपति एकता मंच समिति कोटद्वार के सदस्यों ने विभागीय अधिकारियों पर लापरवाही का आरोप लगाते हुए कहा कि कई बार शिकायत करने के बावजूद भी समस्या का समाधान नहीं हो पा रहा है। उन्होंने कहा कि विभागीय अधिकारी निरीक्षण करने आयेए लेकिन बगैर संरक्षक से मिले ही चले गये।
समिति के अध्यक्ष पंडित सुरेश कोठारी ने कहा कि विधानसभा यमकेश्वर क्षेत्र के अंतर्गत आदर्श बाल भारती प्राईवेट स्कूल चेलूसैंण में विद्युत पोल जर्जर होने से जानमाल का खतरा बना हुआ है। वर्तमान में उक्त विद्यालय में करीब पांच सौ छात्र.छात्राएं अध्ययनरत है। विद्यालय के पास ही एक बिजली का पोल लगा हुआ हैए जो पिछले दिनों तेज हवा के कारण तिरछा हो गया हैए यह पोल कभी भी गिर सकता है। जिससे जानमाल का नुकसान हो सकता है। उन्होंने कहा कि इस संबंध में क्षेत्रीय विधायक श्रीमती ऋतु खण्डूडी भूषण और पूर्व भाजपा जिलाध्यक्ष धीरेन्द्र चौहान को ज्ञापन भेजा गया था। शिकायत का संज्ञान लेते हुए धीरेन्द्र चौहान ने विभागीय जेई से दूरभाष पर वार्ता कर समस्या का निस्तारण करने को कहा। पिछले दिनों विभाग के लाइनमैन निरीक्षण करने भी पहुंचेए परन्तु वह बगैर संरक्षक से मिले ही चले गये। उन्होंने कहा कि आगामी 1 जुलाई से स्कूल खुलने वाली है। अगर इस दौरान किसी भी प्रकार की अप्रिय घटना घटित होती है तो उसकी सम्पूर्ण जिम्मेदारी विभाग की होगी। श्री कोठारी ने कहा कि जल्द 30 जून तक समस्या का निस्तारण न होने पर 3 जुलाई को द्वारीखाल ब्लॉक मुख्यालय में में विद्यालय में अध्ययनरत छात्र.छात्राओं एवं समिति के सदस्यों द्वारा तालाबंदी की जायेगी। जिसकी सम्पूर्ण जिम्मेदारी शासन.प्रशासन की होगी।