भावी पीढ़ी को उत्कृष्ट लेखन और संस्कृति संरक्षण हेतु प्रेरित करने की अपील

Publish 08-06-2019 19:21:32


भावी पीढ़ी को उत्कृष्ट लेखन और संस्कृति संरक्षण हेतु प्रेरित करने की अपील

कोटद्वार। साहित्यिक संस्थाश् साहित्यांचल का 47वां स्थापना दिवस पर समाजसेवी चन्द्र प्रकाश नैथानीए जनार्दन प्रसाद बुड़ाकोटी को अंग वस्त्र स्मृति चिन्हए श्रीफल भेंटकर सम्मानित किया गया।कार्यक्रम का शुभारंभ कौशल्या जखमोला ने सरस्वती वंदना स्वागत गीत की प्रस्तुति देकर किया। कार्यक्रम में संस्था के संरक्षक चक्रधर शर्मा कमलेश डॉ. नंदकिशोर ढौंड़ियाल डा0वेद प्रकाश माहेश्वरी ने 46 वर्ष पूर्व स्थापित संस्था की अब तक की यात्रा पर विस्तृत चर्चा की। इस मौके पर मुख्य अतिथि वरिष्ठ साहित्यकार योगेश पांथरी ने समस्त नवोदित साहित्य प्रेमियों का आह्वान करते हुए कहा कि साहित्यांचल के ध्येय वाक्य साहित्य हमारी बौद्धिक संपदा है का सतत् अनुसरण कर आने वाली पीढ़ी को उत्कृष्ट लेखन और संस्कृति संरक्षण हेतु प्रेरित करें।कार्यक्रम में डा0ख्यात सिंह चौहान प्रकाश कोठारी विनोद चन्द्र कुकरेती ललन बुड़ाकोटी शशि प्रभा रावत सुरेंद्र लाल आर्य जीपी देवरानी अमित नैथानी आलोक कुकरेती विपिन जदली उर्मिला काला सुदीप बौंठियाल सत्यप्रकाश थपलियाल कैप्टन प्रेमलाल खंतवाल केशर सिंह बिष्टए हरि भंडारी जशोदा बुड़ाकोटी डा0 एसपी बडोला डा0विलास बुड़ाकोटी जनार्दन ध्यानी सत्यनारायण नौटियाल हीरा सिंह बिष्ट नेत्र सिंह रावत आदि उपस्थित रहे। शिव प्रकाश कुकरेती की अध्यक्षता में कार्यक्रम का संचालन मयंक प्रकाश कोठारी ने किया।

 

To Top