पांचो सीटों पर लोकतंत्र का उत्सव जारी; सुबह से ही मतदान केंद्रों पर मताधिकार के लिए उमड़े लगा

Publish 11-04-2019 19:04:47


पांचो सीटों पर लोकतंत्र का उत्सव जारी; सुबह से ही मतदान केंद्रों पर मताधिकार के लिए उमड़े लगा

कोटद्वार /गढ़वाल । लोकसभा चुनाव के पहले चरण के लिए उत्तराखंड की पाँचो सीटों पर गुरुवार सुबह सात बजे से मतदान शुरू हो गया। मतदाताओं में मतदान को लेकर उत्साह है। सुबह सात बजे से पहले ही कई पोलिंग बूथ पर लोग कतारों में खड़े दिखे। चुनाव आयोग ने निष्पक्ष चुनाव के लिए कड़े सुरक्षा इंतजाम किए हैं। मतदान स्थलों पर सीसीटीवी और ड्रोन कैमरों से निगरानी रखी जा रही है।कई पोलिंग बूथों में वीवीपैट मशीन के खराब होने के कारण मतदान आधे घंटे लेट से शुरू हो पाया ।


पौडी लोकसभा के कोटद्वार विधानसभा क्षेत्र में 90 वर्षीय वृद्ध दिव्यादेवी ने मतदान किया वह परिवार के साथ मतदान करने पहुंची।युवा और बुजुर्गों में काफी उत्साह देखा जा रहा है। युवा देश को चलाने के लिए एक अच्छी सरकार और एक मजबूत देश का प्रधानमंत्री चुनने की बात कह रहे हैं। जिससे देश के साथ साथ देश के अंदर बहन, बेटी और महिलाओं की सुरक्षा हो सके।


वहीं उत्तराखंड के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने डिफेंस कॉलोनी, देहरादून में मतदान केंद्र संख्या 124 पर अपना वोट डाला, पूर्व सीएम रमेश पोखरियाल निशंक ने भी देहरादून के एक मतदान पर अपना वोट डाला ।इसके अलावा कांग्रेस नेता व पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत ने हल्द्वानी के देवलचौड़ में अपने मताधिकार का प्रयोग किया ।


प्रदेश की मुख्य निर्वाचन अधिकारी सौजन्या ने बताया कि प्रदेश की सभी सीटों टिहरी, पौड़ी, हरिद्वार, अल्मोड़ा और नैनीताल पर मतदान शाम पांच बजे तक चलेगा ।मतदान शुरू होने से पहले ही मतदान केंद्रों के आगे लोगों की लाइनें लगनी शुरू हो गयी थी ।पांचों सीटों पर भाजपा और कांग्रेस सहित विभिन्न दलों के 52 प्रत्याशियों की राजनीतिक किस्मत का फैसला आज ईवीएम में कैद हो जायेगा जिसके परिणाम 23 मई को सामने आएंगे ।उन्होंने बताया कि उत्तराखंड में 37,11,220 महिला मतदाताओं समेत कुल 78,56,268 मतदाता हैं, जिसमें 259 ट्रांसजेडर और 90,845 सर्विस मतदाता शामिल हैं ।सबसे ज्यादा मतदाता 18,40,732 हरिद्वार लोकसभा क्षेत्र में हैं जबकि सबसे कम मतदाता 13,37,803 अल्मोड़ा संसदीय क्षेत्र में हैं ।प्रदेश में सर्वाधिक 27.4 प्रतिशत आबादी 30-39 आयुवर्ग के मतदाताओं की है जबकि 1.6 प्रतिशत मतदाताओं की उम्र 80 वर्ष से अधिक है । उन्होंने बताया कि पूरे राज्य में कुल 11,229 मतदाता केन्द्र बनाये गये हैं जिनमें से 697 संवेदनशील और 656 अतिसंवेदनशील घोषित किये गये हैं ।

To Top