ब्रेकिंग न्यूज़ !
    *** लाइव एसकेजी न्यूज़ पर आप अपने लेख, कविताएँ भेज सकते है सम्पर्क करें 9410553400 हमारी ईमेल है liveskgnews@gmail.com *** *** सेमन्या कण्वघाटी समाचार पत्र, www.liveskgnews.com वेब न्यूज़ पोर्टल व liveskgnews मोबाइल एप्प को उत्तराखंड, उत्तर प्रदेश, मध्यप्रदेश राजस्थान, दिल्ली सहित पुरे भारत में जिला प्रतिनिधियों, ब्यूरो चीफ व विज्ञापन प्रतिनिधियों की आवश्यकता है. सम्पर्क 9410553400 *** *** सभी प्रकाशित समाचारों एवं लेखो के लिए सम्पादक की सहमती जरुरी नही है, किसी भी वाद विवाद की स्थिति में न्याय क्षेत्र हरिद्वार न्यायालय में ही मान्य होगा . *** *** लाइव एसकेजी न्यूज़ के मोबाइल एप्प को डाउनलोड करने के लिए गूगल प्ले स्टोर से सर्च करे liveskgnews ***

    भारत की अध्यात्मिक राजधानी है हरिद्वार - स्वामी प्रेमानन्द शास्त्री जी महाराज

    29-04-2019 16:33:28

    हरिद्वार । श्रीकृष्ण हरिधाम ट्रस्ट के परमाध्यक्ष स्वामी प्रेमानन्द शास्त्री जी महाराज ने कहा है कि धर्म को धारण करने वाला सुख एवं समृद्धि को प्राप्त करते हुए जीवन के परमआनन्द की अनुभूति करता है। शास्त्र और संविधान एक-दूसरे के पूरक हैं, जिस प्रकार धर्म का संचालन शास्त्रों के अनुरुप होता है उसी प्रकार देश और उसकी सरकार का संचालन संविधान से होता है। वे आज भोपतवाला स्थित श्रीकृष्ण हरिधाम में देवभूमि उत्तराखण्ड की धार्मिक यात्रा पर आये श्रद्धालुओं को धर्मोपदेश का सार समझा रहे थे।
    हरिद्वार को भारत की अध्यात्मिक राजधानी बताते हुए उन्होंने कहा कि जिस प्रकार देश और प्रदेश की सत्ता संचालन के लिए उसके मुख्यालय की आवश्यकता है जिसे राजधानी कहते हैं उसी प्रकार धर्म एवं अध्यात्म की दीक्षाओं के संचालन के लिए धर्मस्थलों की स्थापना हमारे धर्मगुरु एवं धर्मोपदेशकों ने की हैं। देवभूमि उत्तराखण्ड (हिमालय) के धार्मिक स्वरुप का वर्णन करते हुए उन्होंने कहा कि भगवान शिव की तपस्थली तथा मां गंगा के उद्गम स्थल और सनातन धर्म के चारों धामों के साथ ही फूलों की घाटी, कलियर शरीफ एवं हेमकुण्ड साहिब तथा नानकमत्ता पूरे विश्व को तीर्थाटन के लिए आकर्षित करते हैं। आदि जगद्गुरु शंकराचार्य की तपस्थली के साथ ही पाण्डवों के वनवासकाल की कथा और लक्ष्मण जी की मूर्छा को समाप्त करने वाली संजीवनी बूटी भी इसी देवभूमि के वरदान हैं। देवभूमि के दर्शनीय स्थलों को जीवन की दिशा और दशा बदलने वाला बताते हुए उन्होंने कहा कि सप्तऋषियों की तपस्थली तथा कुम्भ, अर्द्धकुम्भ एवं श्रावण मास के कांवड़ मेलों के माध्यम से करोड़ों-अरबों तीर्थयात्री यहां आकर अपने जीवन को सार्थक बनाते हैं इस कार्य के संचालन में धर्मनगरी के धर्मस्थलों का विशेष महत्व है जहां धर्मप्रेमी जनता को भोजन प्रसाद एवं आवासीय सुविधायें उपलब्ध करायी जाती हैं।