*** सभी ग्रामवासियों को गाँधी जयंती और विजय दशमी दशहरा की हार्दिक शुभकामनायें - शेर अली , प्रधान प्रत्याशी पति ग्राम पंचायत रायापुर *** *** लाइव एसकेजी न्यूज़ पर आप अपने लेख, कविताएँ भेज सकते है सम्पर्क करें 9410553400 हमारी ईमेल है liveskgnews@gmail.com *** *** सेमन्या कण्वघाटी समाचार पत्र, www.liveskgnews.com वेब न्यूज़ पोर्टल व liveskgnews मोबाइल एप्प को उत्तराखंड, उत्तर प्रदेश, मध्यप्रदेश राजस्थान, दिल्ली सहित पुरे भारत में जिला प्रतिनिधियों, ब्यूरो चीफ व विज्ञापन प्रतिनिधियों की आवश्यकता है. सम्पर्क 9410553400 *** *** सभी प्रकाशित समाचारों एवं लेखो के लिए सम्पादक की सहमती जरुरी नही है, किसी भी वाद विवाद की स्थिति में न्याय क्षेत्र हरिद्वार न्यायालय में ही मान्य होगा . *** *** लाइव एसकेजी न्यूज़ के मोबाइल एप्प को डाउनलोड करने के लिए गूगल प्ले स्टोर से सर्च करे liveskgnews ***

भिक्षा मांगने कोई और नहीं बल्कि राम भक्त संत मोरारी बापू आए

08-10-2019 17:19:55

गोरखपुर/  उत्तर प्रदेश( रघुनाथ प्रसाद शास्त्री ): क्या इस भिक्षु को भोजन मिलेगा? यह सुनकर अपनी झोपड़ी से बाहर आए दिव्यांग मनोज निषाद और उनकी बेटी संयोगिता हतप्रभ रह गए। उनके द्वार भिक्षा मांगने कोई और नहीं बल्कि राम भक्त संत मोरारी बापू आए थे। पिता-पुत्री कुछ क्षण बापू को एकटक देखते रह गए, मुंह से कुछ न निकला। बापू ने प्रेम भरे स्वर में कहा कि भिक्षु को बैठने का स्थान मिलेगा क्या? यह सुनकर पिता-पुत्री मानो तंद्रा से जागे, मनोज ने प्रणाम करते हुए स्वागत किया और संयोगिता भाग कर जल्दी से चारपाई लाई और बापू के लिए आसन बिछाया। शहर में राम कथा का वाचन करने आए संत मोरारी बापू सोमवार शाम छह बजे के बाद अचानक जंगल तिकोनिया नंबर तीन गांव पहुंचे। अपने चार पांच सहयोगियों के साथ कार गांव के बाहर छोड़ी और पैदल ही चल पड़े। दिव्यांग निषाद राज मनोज के घर के आगे रुके और भोजन की भिक्षा मांगी। अपने टूटे हुए घर में बापू को बैठाने के लिए मनोज निषाद, बेटी संयोगिता और सुमन सब कुछ सही करने में जुट गए।

संयोगिता ने जल्दी जल्दी आटा गुंथा तो सुमन ने आलू काटे, मनोज निषाद बीच-बीच में बेटियों को साफ सफाई का निर्देश देते रहे। पराठे और आलू की सब्जी तैयार हुई तो मनोज निषाद ने खुद अपने हाथों से बापू को भोजन परोसा। बापू भोजन के दौरान अपने साथ आए सहयोगियों को भी पराठे के टुकड़े और सब्जी प्रसाद के रूप में बांट रहे थे। मनोज अपने हाथ से बापू की थाली में पराठे परोसते गए। भोजन करने के बाद बापू ने दोनों बेटियों को कपड़े और दशहरा मनाने के लिए सौ-सौ रुपये दिए। संत मोरारी बापू ने बताया कि वह जहां भी जाते हैं, समाज के गरीब परिवार में अचानक पहुंच कर भोजन करते हैं, इससे उन्हें आत्मिक सुख प्राप्त होता है।