*** लाइव एसकेजी न्यूज़ पर आप अपने लेख, कविताएँ भेज सकते है सम्पर्क करें 9410553400 हमारी ईमेल है liveskgnews@gmail.com *** *** सेमन्या कण्वघाटी समाचार पत्र, www.liveskgnews.com वेब न्यूज़ पोर्टल व liveskgnews मोबाइल एप्प को उत्तराखंड, उत्तर प्रदेश, मध्यप्रदेश राजस्थान, दिल्ली सहित पुरे भारत में जिला प्रतिनिधियों, ब्यूरो चीफ व विज्ञापन प्रतिनिधियों की आवश्यकता है. सम्पर्क 9410553400 *** *** सभी प्रकाशित समाचारों एवं लेखो के लिए सम्पादक की सहमती जरुरी नही है, किसी भी वाद विवाद की स्थिति में न्याय क्षेत्र हरिद्वार न्यायालय में ही मान्य होगा . *** *** लाइव एसकेजी न्यूज़ के मोबाइल एप्प को डाउनलोड करने के लिए गूगल प्ले स्टोर से सर्च करे liveskgnews ***

हाई टेंशन लाइन के तार सड़क को चुमते, दुर्घटना को न्यौता देते

02-06-2019 18:08:47

गैरसैण (महेशानन्द जुयाल)। पीएमजीएसवाई और विद्युत विभाग के आपसी ताल-मेल के अभाव का खामियाजा चमोली जिले के गैरसैण विकास खंड के सिलपाटा के ग्रामीणों को भुगतना पड़ रहा है। यहां हाई टेंशन लाइन के तार सड़क पर झुल रहे है जिससे कभी भी कोई बड़ा हादसा हो सकता है।
सिलपाटा गांव के पास से पीएमजीएसवाई की नव निर्मित सडक गुजर रही है। सड़क से ढाई फीट की उंचाई पर हाई टेंशन लाइन के तार झूल रहे है। जिससे आने-जाने वाले वाहनों के साथ ही ग्रामीणों को भी भारी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। माह अप्रैल में सिलपाटा के जगत सिंह पुत्र श्याम सिंह 35 वर्ष सड़क किनारे लटकते तार की चपेट में आ गया था तो बुरी तरह से झुलस गया था। जिसका अभी भी श्रीनगर बेस चिकित्सालय में उपचार चल रहा है। श्याम सिंह का कहना है कि उनके पुत्र इलाज में 70 से 80 हजार तक खर्च हो चुका है लेकिन  विभाग ने उन्हें कोई आर्थिक सहयोग नहीं दिया। सलिपाटा के ग्रामीणों गबर सिंह, श्यामसिंह, विभा देवी, माहेश्वरी देवी, संत राम, कमला देवी, आदि का कहना है कि शीघ्र ही विद्युत लाइन को ठीक किया जाय ताकि इस तरह के हादसों से बचा जा सके। साथ ही उन्होंने घायल जगत सिंह को आर्थिक सहायता दिये जाने की भी मांग की ळै। उधर विद्युत अवर अभियंता  सीएस बुटोला का कहना है कि पीएमजीएसवाई ने लाईन के नीचे सड़क की दीवार बनायी हैं जिससे तारों की उंचाई घट गई है। निर्माणदायी विभाग को भी अवगत करा दिया गया है सोमवार को दोनों का संयुक्त निरीक्षण होना है।  शीघ्र ही समास्या का हल निकाल लिया जायेगा।