ब्रेकिंग न्यूज़ !
    *** लाइव एसकेजी न्यूज़ पर आप अपने लेख, कविताएँ भेज सकते है सम्पर्क करें 9410553400 हमारी ईमेल है liveskgnews@gmail.com *** *** सेमन्या कण्वघाटी समाचार पत्र, www.liveskgnews.com वेब न्यूज़ पोर्टल व liveskgnews मोबाइल एप्प को उत्तराखंड, उत्तर प्रदेश, मध्यप्रदेश राजस्थान, दिल्ली सहित पुरे भारत में जिला प्रतिनिधियों, ब्यूरो चीफ व विज्ञापन प्रतिनिधियों की आवश्यकता है. सम्पर्क 9410553400 *** *** सभी प्रकाशित समाचारों एवं लेखो के लिए सम्पादक की सहमती जरुरी नही है, किसी भी वाद विवाद की स्थिति में न्याय क्षेत्र हरिद्वार न्यायालय में ही मान्य होगा . *** *** लाइव एसकेजी न्यूज़ के मोबाइल एप्प को डाउनलोड करने के लिए गूगल प्ले स्टोर से सर्च करे liveskgnews ***

    नगर पालिका के कूड़ा निस्तारण के लिए इंजीनियरिंग करेंगे तकनीकी सहायता

    02-05-2019 16:27:00

    गोपेश्वर (जगदीश पोखरियाल)। चमोली जिला मुख्यालय की गोपेश्वर नगर पालिका में कूडा निस्तारण की समस्या को दूर करने का कार्य अब इंजीनियरिंग कॉलेज गोपेश्वर के छात्र तकनीक तैयार करेंगे। संस्थान ने तकनीकी सहयोग प्रदान करने के लिये हामी भरी गई है और इसके लिए पालिका प्रशासन ने योजना के लिये वित्तीय व्यवस्था करने की बात कही है।
    बता दें कि नगर पालिका गोपेश्वर में वर्तमान में 40 हजार से अधिक आबादी निवास करती है। ऐसे में नगर क्षेत्र में व्यावसायिक संस्थानों और घरों से टनों कूडा निकलता है। जिसके निस्तारण के लिये पालिका की ओर से कई स्थानों पर डंपिंग जोन बनाये गये हैं, लेकिन नगर क्षेत्र में निकलने वाले प्लास्टिक कूडे के निस्तारण के लिये पालिका के पास कोई पुख्ता इंतजाम नहीं हैं। जिसे देखते हुए पालिका ने गुरूवार को इंजीनियरिंग कॉलेज गोपेश्वर में बैठक आयोजित की गई। जिसमें नगर पालिका अध्यक्ष ने संस्थान से प्लास्टिक कचरे के निस्तारण के लिये प्रपोजल तैयार करने का प्रस्ताव रखा गया। जिस पर संस्थान के निदेशक केके एस मेर ने योजना के तकनीकी सहयोग के लिये सहमती जताई है। उन्होंने बताया तक संस्थान के छात्र पालिका के चयनित स्थानों का भ्रमण कर प्रस्ताव तैयार किया जाएगा। जिसके बाद कूडा निस्तारण के लिये योजना तैयार की जाएगी। साथ उन्होंने नगर में पार्किंग की समस्या को देखते हुए। पार्किंग के लिये भी योजना तैयार करने की बात कही है। बैठक में नगर पालिका अध्यक्ष सुरेंद्र लाल और सभासद नवल भट्ट ने योजना तैयार होने पर योजना निर्माण के लिये वित्तीय व्यवस्था करने की बात कही है।