वर्तमान समय की समस्या भौतिक नहीं मानसिक हैं : डाॅ. गुप्ता

Publish 02-06-2019 18:05:15


वर्तमान समय की समस्या भौतिक नहीं मानसिक हैं :  डाॅ. गुप्ता

गोपेश्वर (जगदीश पोखरियाल)। चमोली जिला मुख्यालय गोपेश्वर में प्रजापिता ईश्वरीय विश्विद्यालय सेवा केंद्र गोपेश्वर के तत्वावधान में आयोजित दो दिवसीय कार्यशाला के दूसरे दिन रविवार को “संबंधों में मधुरता“ विषय पर व्याख्यान दिया गया। दूसरे दिन का उद्घाटन करते हुए मुख्य अतिथि, महाविद्यालय कॉलेज गोपेश्वर के प्राचार्य डाॅ. आरके गुप्ता ने कहा कि वर्तमान समय की जो अधिकांश समस्याएं हैं वो भौतिक नहीं मानसिक हैं और मानसिक समस्याओं का हल सिर्फ आध्यात्मिक साधना से ही निकाला जा सकता है।
इन्दौर से आईं जीवन प्रबंधन विशेषज्ञ ब्रह्मा कुमारी पूनम बहन ने ’संबंधों की मधुरता’ विषय पर अपना वक्तव्य रखते हुए कहा कि हम सब सामाजिक व्यवस्था में जीते हुए पहचान प्राप्त करते हैं। सामाजिक जीवन में पारस्परिक संबंधों का विशेष महत्व होता है। सभी संबंधों को दायित्य बोध की मथानी से मथने पर स्नेह, आत्मीयता व माधुर्य का नवनीत प्राप्त होता है, जिससे आचरण में सहजता, सहिष्णुता, सामंजस्य व क्षमाशीलता आदि गुण विकसित होते हैं। संबंधों के संदर्भ में दायित्व पूर्ति के समय बुद्धि का अत्यधिक प्रयोग प्रतिकूल परिस्थिति को उत्पन्न करता है। अहम् की उत्पत्ति के कारण अनुकूलन या सामंजस्य का अभाव सामने आता है और तनाव की स्थिति प्रकट होती है। कहा कि हमारे परिवार और आस पास जो भी रिश्ते हैं उन्हें उनकी मौलिकता के साथ स्वीकार करना आना चाहिए। इस मौके पर बीके किरन, बीके सरोज, बीके जसवंत, सुरेंद्र सिंह नेगी, राजेन्द्र सिंह बिष्ट, अशोक सजवाण डॉ. जीत सिंह कंडारी, कार्यक्रम संचालक डॉ. दर्शन सिंह नेगी, डॉ. जगमोहन सिंह, युद्धवीर बत्र्वाल, विजया कंडारी, विमला रावत सरिता गौड़, पुष्पा देवी, सरिता रावत आदि मौजूद थे।

To Top