जेल में बंद आंदोलनकारियों ने नहीं खाया खाना

Publish 11-07-2019 20:16:12


जेल में बंद आंदोलनकारियों ने नहीं खाया खाना

गोपेश्वर। गैरसैंण राजधानी की मांग को लेकर जेल में बंद आंदोलनकारियों का आंदोलन गुरूवार को जेल में भी जारी रहा। आंदोलनकारियों ने गुरूवार को जेल में खाना न खा कर अपना विरोध दर्ज किया।
बुधवार को गैरसैंण राजधानी प्रदर्शन के मामले में सुनवाई के दौरान आंदोलनकारियों के जमानत न लेने के बाद मुंसिफ मजिस्ट्रेट की अदालत ने मामले में आरोपी 35 महिला-पुरुष आंदोलनकारियों को जेल भेज दिया था। जिसके बाद पुलिस ने सभी आंदोलनकारियों को जिला कारागार पुरसाडी लाया गया। जहां गुरूवार को सुबह से आंदोलनकारियों ने खाना न खाकर सत्याग्रह शुरू कर दिया है। गुरूवार को पूर्व विधानसभा उपाध्यक्ष डा. अनुसूया प्रसाद मैखुरी, अरविंद नेगी, अनिल कठैत और दीवान सिंह ने जेल में जाकर आंदोलनकारियों से मुलाकात की। उन्होंने बताया कि आंदोलनकारियों ने जेल में भूख हड़ताल की जा रही है। उन्होंने सरकार से शीघ्र कार्रवाई करते हुए आंदोलनकारियों के मुकदमे वापस लेने और उन्हें ससम्मान रिहाक करने की मांग उठाई है।
क्या कहते है अधिकारी
17आंदोलनकारियों ने गुरूवार को खाना खाने से इंकार कर दिया। हालांकि उन्होंने पानी और कुछ बिस्कुट खाए हैं। रात के खाने के लिए जेल प्रशासन और आंदोलनकारियों में सहमति बन गई है।
प्रमोद पांडे, जेलर, जिला कारागार पुरसाडी, चमोली।

To Top