*** लाइव एसकेजी न्यूज़ पर आप अपने लेख, कविताएँ भेज सकते है सम्पर्क करें 9410553400 हमारी ईमेल है liveskgnews@gmail.com *** *** सेमन्या कण्वघाटी समाचार पत्र, www.liveskgnews.com वेब न्यूज़ पोर्टल व liveskgnews मोबाइल एप्प को उत्तराखंड, उत्तर प्रदेश, मध्यप्रदेश राजस्थान, दिल्ली सहित पुरे भारत में जिला प्रतिनिधियों, ब्यूरो चीफ व विज्ञापन प्रतिनिधियों की आवश्यकता है. सम्पर्क 9410553400 *** *** सभी प्रकाशित समाचारों एवं लेखो के लिए सम्पादक की सहमती जरुरी नही है, किसी भी वाद विवाद की स्थिति में न्याय क्षेत्र हरिद्वार न्यायालय में ही मान्य होगा . *** *** लाइव एसकेजी न्यूज़ के मोबाइल एप्प को डाउनलोड करने के लिए गूगल प्ले स्टोर से सर्च करे liveskgnews ***

ग्रामीण इलाकों में भी अब टैंकर बने पानी का सहारा

11-06-2019 19:46:43

थराली/गोपेश्वर/ चमोली (रमेश थपलियाल/जगदीश पोखरियाल)।  जल ही जीवन है, अकसर ये टैग लाइन अकसर जल निगम व जल संस्थान के कार्यालयों पर लिखी दिखायी देती है। परंतु जैसे ही गर्मी का सीजन शुरू होता है। जल संस्थान पानी पिलाने में असमर्थ हो जाता है। शहर तो शहर अब ग्रामीण क्षेत्रों में भी उपभोक्ता टैंकर के सहारे नजर आ रहे है।
 चमोली जिले के नारायणबगड़ ब्लाॅक के हरमनी (बामण गांव) आजकल पीने के पानी की समस्याओं से जूझ रहा है।  15 से 20 परिवार वाले इस बामण गांव में पिछले दो सप्ताह से पानी की किल्लत बनी हुई है। ग्रामीण  दो से चार किमी दूरी से पीठ पर व कुछ लोग किराये के वाहनों से पानी ढोह कर पीने को मजबूर है। गांव के मोहन भारद्वाज, सुनील भारद्वाज, जगमोहन आदि का कहना है कि एक माह स ेजल संस्थान के कर्मचारियों से पानी की लाइन को ठीक करने की मांग करते आ रहे है लेकिन उनकी कोई सुनवाई नहीं हो रही है। ऐसे में ग्रामीणों स्वयं के लिए व अपने मवेशियों को पानी की किल्लत बनी हुई है। कहा कि अब जल संस्थान ने मंगलवार को एक टैंकर पानी का भेजा है। कहा कि नियमित पानी के लिए पाइप लाइन को ठीक किया जाना आवश्यक है। इधर सहायक अभियंता जलसंस्थानयशपाल सिंह बिष्ट ने बताया कि गांव को पानी सप्लाई करने वाला स्त्रोत सूख गया है। ग्रामीणों की शिकायत पर मंगलवार को पेयजल आपूर्ति के लिए टैंकर भेजा गया है। साथ ही उन्होंने कहा कि जल संस्थान की टीम स्रोत के निरीक्षण के लिए भेजी गई है। जब तक कोई स्थायी समाधान नही निकल जाता तब तक ग्रामीणों की आवश्यकता अनुसार टैंकर से ही पेयजलापूर्ति की जाएगी