ब्रेकिंग न्यूज़ !
    *** लाइव एसकेजी न्यूज़ पर आप अपने लेख, कविताएँ भेज सकते है सम्पर्क करें 9410553400 हमारी ईमेल है liveskgnews@gmail.com *** *** सेमन्या कण्वघाटी समाचार पत्र, www.liveskgnews.com वेब न्यूज़ पोर्टल व liveskgnews मोबाइल एप्प को उत्तराखंड, उत्तर प्रदेश, मध्यप्रदेश राजस्थान, दिल्ली सहित पुरे भारत में जिला प्रतिनिधियों, ब्यूरो चीफ व विज्ञापन प्रतिनिधियों की आवश्यकता है. सम्पर्क 9410553400 *** *** सभी प्रकाशित समाचारों एवं लेखो के लिए सम्पादक की सहमती जरुरी नही है, किसी भी वाद विवाद की स्थिति में न्याय क्षेत्र हरिद्वार न्यायालय में ही मान्य होगा . *** *** लाइव एसकेजी न्यूज़ के मोबाइल एप्प को डाउनलोड करने के लिए गूगल प्ले स्टोर से सर्च करे liveskgnews ***

    डीएम ने कहा करें गुणवत्ता के साथ नये डिजायन के ऊनी उत्पाद तैयार

    02-06-2019 18:11:29

    गोपेश्वर (जगदीश पोखरियाल)।  जिलाधिकारी स्वाति एस भदौरिया ने चमोली अपर बाजार स्थित बुनकर सेवा केन्द्र का निरीक्षण करते हुए अच्छी गुणवत्ता के नए डिजायन के ऊनी उत्पाद तैयार करने पर जोर दिया। जिला उद्योग केन्द्र को बुनकर सेवा केन्द्र से तकनीकि सहयोग लेकर अच्छे डिजायन के ऊनी उत्पाद तैयार करवाने के निर्देश दिए, ताकि जनपद को ऊनी उत्पाद में एक अलग पहचान मिल सके और बुनकरों की आर्थिकी में बृद्धि हो सके।
    जिलाधिकारी ने बुूनकर सेवा केन्द्र से अभी तक रंगायान, डिजायन और बुनायन में प्रशिक्षण ले चुके बुनकरों के बारे में जानकारी ली। उन्होंने प्रशिक्षण प्राप्त कर चुके बुनकरों को डोबी डिकाल्र्ड पर नए नए डिजायन उकेरने का प्रशिक्षण भी देने को कहा। जिलाधिकारी ने कहा कि जिले में लोकल ऊन काफी मात्रा में व अच्छे दामों पर उपलब्ध हो जाती है। लोकल ऊन के साथ मुलायम ऊन का मिश्रण करके अच्छी गुणवत्ता के ऊनी उत्पाद तैयार किए जा सकते है, जिससे बुनकरों की आजीविका बढेगी और उनकी आर्थिकी में सुधार होगा। कहा कि नए डिजायन के शाॅल, पंखी, स्टाॅल, मफलर, टोपी, ट्विीड (कोट का कपडा) आदि ऊनी उत्पादों को बेचने के लिए यात्रा सीजन के दौरान बदरीनाथ एवं आसपास अच्छे मार्केट उपलब्ध है। जिलाधिकारी ने बुनकर सेवा केन्द्र एवं जिला उद्योग केन्द्र के महाप्रबन्धक को माणा गांव को हैण्डलूम टूरिस्ट विलेज के रूप में विकसित करने के लिए प्रस्ताव तैयार करने के निर्देश दिए। कहा कि इसके लिए जिला योजना से धनराशि का प्राविधान किया जाएगा। इस दौरान बताया गया कि बुनकर सेवा केन्द्र के माध्यम से छिनका हथकरघा क्लस्टर को कताई-बुनाई में प्रशिक्षित किया जा चुका है। निरीक्षण के दौरान एसडीएम देवानंद शर्मा, जीएमडीआईसी डाॅ. एमएस सजवाण सहित बुनकर सेवा केन्द्र के कार्मिक मौजूद थे।
    इससे पूर्व जिलाधिकारी ने गोपेश्वर, जीरो बैंड स्थित ग्रामीण स्वरोजगार प्रशिक्षण संस्थान का भी निरीक्षण करते हुए अभी तक प्रशिक्षण ले चुके लोगों के बारे में जानकारी ली। कहा कि प्रशिक्षण का फायदा तभी है जब कोई अपना स्वरोजगार शुरू करे। उन्होंने आरसेटी निर्देश को विगत पांच वर्षो में प्रशिक्षण ले चुके अभ्यर्थियों की श्रेणीवाईज सूची तैयार करने के निर्देश दिए, ताकि संबंधित विभागों से समन्वय बनाकर ट्रेनिंग ले चुके लोगों को स्वरोजगार से जोडा जा सके। जिलाधिकारी ने कहा कि होमस्टे, कैटरिंग, उद्यान, कृषि, डेयरी, सिलाई, मशरूम उत्पादन, नर्सरी आदि में से कोई ऐसे पांच सेक्टर, जिनकी इस जनपद में भरपूर संभावनाएं है, उनकी सूची उपलब्ध की जाए, ताकि ऐसे सेक्टर में प्रशिक्षणार्थियों को स्वरोजगार से जोडने के लिए फंड की व्यवस्था की जा सके। आरसेटी निर्देशक सुदेश सिंह ने बताया कि वार्षिक कार्ययोजना के तहत चालू वित्तीय वर्ष में संस्थान द्वारा कुल 16 प्रशिक्षण कार्यक्रमों के सापेक्ष चार सौ प्रशिक्षणार्थियों को प्रशिक्षित करने का लक्ष्य रखा गया है। इस पर जिलाधिकारी ने उन्हें निर्देश दिए कि वर्ष के दौरान कम से कम 25 प्रशिक्षण कार्यक्रम किए जाए तथा प्रशिक्षण देने के तुरंत बाद प्रशिक्षण लेने वालों को स्वरोजगार से जोड़ना सुनिश्चित करें। उन्होंने कहा कि प्रशिक्षण के बाद स्वरोजगार से जुड़े लोगों का भौतिक सत्यापन भी किया जाएगा।