बाल अधिकार को लेकर हिमाद समिति में हुई गोष्ठी

Publish 08-05-2019 0:22:49


बाल अधिकार को लेकर हिमाद समिति में हुई गोष्ठी

गोपेश्वर (जगदीश पोखरियाल)। बाल अधिकार को लेकर मंगलवार को चमोली जिला मुख्यालय गोपेश्वर में बाल अधिकार को लेकर गोष्ठी का आयोजन किया गया। गोष्ठी में बोलते हुए हिमाद समिति के सचिव उमाशंकर बिष्ट ने कहा कि बच्चों के सामाजिक शैक्षिक एवं आर्थिक उन्नति में समाज की समृद्वि निहित है।  कहा कि  बच्चों के प्रारंमिक वर्ष उनके जीवन के लिए महत्वपूर्ण होते है। शून्य से छह वर्ष तक आते-आते बच्चों में ज्ञानात्माक, मनौवैज्ञानिक, भावनाओं की जडें मजबूत होती है। यही कारण है कि विकसित देशों में बच्चों की सभी सुविधायें सरकार की ओर से उपलब्ध कराने का प्रयास किया जाता है। इस लिए बच्चों में अच्छे मूल्यों एंव मौलिकताओं पर आधारित समाज निर्माण करना चाहिए ताकि बच्चों के प्रति अन्याय की जड को समाप्त किया जाय।। कहा कि यदि बच्चों को प्यार एवं दुलार से वंचित रखा जाता है तो बच्चें अच्छे नागरिकों के गुणों के साथ ही उनकी उन्नति और विकास संभव नही है। इस अवसर चाइल्ड लाईन सेवा की समन्वयक प्रभा रावत ने कहा कि निर्धनता के कारण भी बच्चों के मानसिक एवं शारीरिक विकास पर प्रभाव पड़ने के साथ ही बच्चों की असुरक्षा की संभावना बनी रहती हैं। कहा कि बच्चों के सर्वागीण विकास के लिए सरकार की विभिन्न लोक कल्याणकारी योजनायें संचालित की जा रही है। इन योजनाओं के माध्यम से बच्चों के स्वास्थ्य, शिक्षा, पोषण, सुरक्षा एवं सहभागिता  को सुनिश्चित किया जा रहा है, लेकिन योजनाओें के व्यापक प्रचार, प्रसार और समुदाय में जागरूकता के अभाव के कारण आज भी आम व्यक्ति तक इनका लाभ प्राप्त नही हो पा रहा है। इस मौके पर पंकज पुरोहित, नवीन बिष्ट, रिंकी कडेरी, विनोद मंमगाई, भागरथी रावत, दीपक नेगी आदि ने अपने विचार रखे।

To Top