*** लाइव एसकेजी न्यूज़ पर आप अपने लेख, कविताएँ भेज सकते है सम्पर्क करें 9410553400 हमारी ईमेल है liveskgnews@gmail.com *** *** सेमन्या कण्वघाटी समाचार पत्र, www.liveskgnews.com वेब न्यूज़ पोर्टल व liveskgnews मोबाइल एप्प को उत्तराखंड, उत्तर प्रदेश, मध्यप्रदेश राजस्थान, दिल्ली सहित पुरे भारत में जिला प्रतिनिधियों, ब्यूरो चीफ व विज्ञापन प्रतिनिधियों की आवश्यकता है. सम्पर्क 9410553400 *** *** सभी प्रकाशित समाचारों एवं लेखो के लिए सम्पादक की सहमती जरुरी नही है, किसी भी वाद विवाद की स्थिति में न्याय क्षेत्र हरिद्वार न्यायालय में ही मान्य होगा . *** *** लाइव एसकेजी न्यूज़ के मोबाइल एप्प को डाउनलोड करने के लिए गूगल प्ले स्टोर से सर्च करे liveskgnews ***

आर्थिक गणना को एनएसओ की गाइड लाइन के तहत पूरा करे - जिलाधिकारी

07-06-2019 19:27:30

 चमोली (संतोष नेगी) : सातवीं आर्थिक गणना जल्द शुरू होगी। जनसेवा केंद्रों के संचालकों के माध्यम से इस बार मोबाइल एप पर गणना कराई जाएगी। जिले में आर्थिक गणना की तैयारियों को लेकर शुक्रवार को क्लेक्ट्रेट सभागार में गणना पर्यवेक्षकों को प्रशिक्षण दिया गया। जिलाधिकारी स्वाति एस भदौरिया ने प्रशिक्षण कार्यक्रम का शुभांरभ करते हुए गणना पर्यवेक्षकों को बेहद सर्तकता और सावधानी के साथ आर्थिक गणना कार्यो को पूरा करने को कहा. जिलाधिकारी ने कहा कि आर्थिक गणना बहुत ही महत्वपूर्ण है। उन्होंने गणना पर्यवेक्षकों को एनएसओ की गाइड लाइन का भंली भांति अध्ययन करते हुए आर्थिक गणना के तहत सर्वे कार्य पूरा करने के निर्देश दिए। उन्होंने गणना पर्यवेक्षकों को प्रशिक्षण के दौरान अपनी सभी शंकाओं का निराकरण करने को कहा ताकि आर्थिक गणना में किसी प्रकार की त्रुटि न हो।

एनएसओ के प्रशिक्षण प्रभारी रंजीत नेगी एवं सीएससी के प्रोजेक्ट मैनेजर राजेश नेगी ने सीएससी के गणना पर्यवेक्षकों को प्रशिक्षण देते हुए बताया कि यह सांतवी आर्थिक गणना है। इससे पहले छह आर्थिक गणना हो चुकी है लेकिन वह सब पेपर पर हुई है। यह देश की पहली आर्थिक गणना है जो ऑनलाइन मोबाइल एप द्वारा की जाएगी तथा जिसका कार्य 6 माह में पूरा किया जाएगा। इससे जो डाटा लिया जाएगा, वह पूरी तरह से सुरक्षित और गोपनीय रखा जाएगा। सीएससी ई गवर्नेंस केंद्र संचालक पर्यवेक्षक की भूमिका निभाएंगे और उनके द्वारा जोड़े गए गणनाकार घर-घर जाकर उद्यमियों की आर्थिक गणना का कार्य करेंगे। पर्यवेक्षक उनके द्वारा किये गए कार्य को पुनः जांच करके प्रमाणित करेंगे।

 प्रशिक्षण के दौरान बताया गया कि 16 जून तक ब्लाक स्तरों पर गणना पर्यवेक्षकों को प्रशिक्षण दिया जाएगा तथा जून माह के अंत तक आर्थिक गणना का कार्य शुरू किया जाएगा। ब्लाॅक स्तर पर घरों और प्रतिष्ठानों में आर्थिक गणना के तहत जनसेवा केंद्र संचालकों की अहम भूमिका होगी। गणनाकारों को जनसेवा केंद्र संचालक सुपरवाइजर ही आर्थिक गणना के लिए प्रशिक्षित और पंजीकृत करेंगे। इस आर्थिक गणना से सरकार के पास रोजगार से जुड़े लोगों का डेटा उपलब्ध होने से बेरोजगार लोगों के बारे में सही सही आंकड़े उपलब्ध हो सकेंगें। प्रशिक्षण में गणना पर्यवेक्षकों को आर्थिक गणना कार्यो के बारे में पूरी जानकारी दी गई। आर्थिक गणना प्रशिक्षण के दौरान मुख्य विकास अधिकारी हंसादत्त पांडे, पीडी डीआरडीए प्रकाश रावत, डीडीओ एसके राॅय, जीएमडीआईसी डा0 एमएस सजवाण, जिला अर्थ एवं संख्याधिकारी आनंद सिंह जंगपांगी, जिला समन्वयक सचिन साह, जिला प्रबन्धक संजय नेगी, ई-डिस्ट्रक्ट मैनेजर विकास बिष्ट आदि सहित सीएससी संचालक मौजूद थे।