कारगिल शहीद रणजीत सिंह के गांव ग्रामीणों ने दी आमरण अनशन की चेतावनी

Publish 01-06-2019 18:15:52


कारगिल शहीद रणजीत सिंह के गांव ग्रामीणों ने दी आमरण अनशन की चेतावनी

गैरसैण (महेशानंद जुयाल)। चमोली जिले के गैरसैण विकास खंड के कारगिल शहीद रणजीत सिंह के गांव बासी सेम-अक्षवाडा सहित अन्य गांवों को सड़क से जोड़ने के लिए शनिवार को ग्रामीणों ने उपजिलाधिकारी गैरसैण के माध्यम से उत्तराखंड के मुख्यमंत्री को ज्ञापन भेज कर कहा है कि यदि शीघ्र ही सड़क निर्माण को लेकर प्रक्रिया शुरू नहीं की जाती है तो ग्रामीण 13 जून से आमरण अनशन पर बैठने को मजबूर होंगे। सूबे के सीएम को ग्रामीणों का कहना है कि 1999 में कारगिल शहीदों के गांवों को सड़क से जोड़ने के लिए तत्कालीन प्रधान मंत्री अटल बिहारी बाजपेयी ने घोषणा की थी, लेकिन आज तक शहीद रणजीत सिंह के गांव को सड़क से जोड़ने के लिए कोई शुरूआत नहीं की गई है जबकि ग्रामीण इस संबंध में कई बार पत्राचार कर चुके है।
ग्रामीणों ने मांग की है कि क्षेत्र के बडियारी, लखेडी, बासी सेम, अक्षवाडा, गौल, भेडियाणा, मासीसेरा गांवों को आगरचटी-पंचाली मोटर मार्ग के बौखनारा नामक स्थान से जोड़ा जाय। ग्रामीणों का कहना है कि सड़क सुविधा से वंचित होने के कारण क्षेत्र ग्रामीणों को भारी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है।  कहा कि यदि आठ जून तक इस पर काई कार्रवाई नहीं की जाती है तो 13 जून से अमर शहीद के गांव अक्षवाडा में धरना प्रदर्शन कर आमरण अनशन शूरू कर देंगे। ज्ञापन में बासी सेम की महिला मंगलदल अध्यक्ष  हीरा देवी, सरपंच अक्षवाडा प्रेम सिंह, पुष्पादेवी, कस्तूरा देवी, मोहन सिंह, नन्दन सिंह, रघुवर दत, महेश्वरी देवी के हस्ताक्षर है।

To Top