दो दिवसीय “अलविदा तनाव“ कार्याशाला का हुआ शुभारंभ

Publish 01-06-2019 18:12:28


दो दिवसीय “अलविदा तनाव“ कार्याशाला का हुआ शुभारंभ

गोपेश्वर (जगदीश पोखरियाल)। चमोली जिला मुख्यालय गोपेश्वर के राजकीय इंटर काॅलेज के प्रेक्षागृह प्रजापिता ईश्वरीय विश्विद्यालय सेवा केंद्र गोपेश्वर के तत्वावधान में आयोजित दो दिवसीय कार्यशाला “अलविदा तनाव“ का शनिवार को शुभारंभ हुआ। जिसका शुभारंभ मुख्य अतिथि जिलाधिकारी चमोली स्वाति एस भदौरिया ने किया।
राइका गोपेश्वर में आयोजित तनावमुक्ति एवं मेडीटेशन अनुभूति शिविर में इंदौर से आई तनाव मुक्ति विशेषज्ञ ब्रह्मा कुमारी पूनम बहन ने कहा कि अगर जीवन में स्थाई खुशी एवं शांति चाहिए तो व्यक्ति को आध्यात्मिक बनना ही होगा। पदार्थों में सुख है, आनंद नहीं, आनंद भीतर की चीज है, इसे भीतर खोजों और वह आध्यात्म से ही आ सकता है, बाहर से नहीं। इसे पाने के लिए आध्यात्मिक बनें, जो आध्यात्मिक होते है उनमें रोग प्रतिरोधक क्षमता अधिक होती है। उनका मन शांत व शक्तिशाली होता है, जो आध्यात्मिक होता है उसको सब चीजें अपने अनुकूल दिखती हैं और वह सकारात्मक होता है। जो आध्यात्मिक नही है, वो हर चीज में शिकायत करता है। आध्यात्मिक में शार्टकट नही होता। तनाव मुक्त में उन्होंने बताया कि जीवन में सारा खेल हमारे मन के संकल्पों का है। हमारे दो मन होते है, अंतर्मन और बाह्य मन। हम अपने अंतर्मन में जो भी संकल्प करते है वह उसे पूर्ण करने में लग जाता है। इस मौके नगर पालिका अध्यक्ष सुरेंद्र लाल, बीके मेहरचंद भाई, बीके किरन, बीके जसवंत, सुरेंद्र सिंह लिंगवाल, मुरारीलाल, अनुसूया प्रसाद भट्ट, अशोक सजवाण डॉ. जीत सिंह कंडारी, डॉ. दर्शन सिंह नेगी, डॉ. जगमोहन सिंह, डॉ. दिनेश सती, विजया, विमला आदि मौजूद थे।

To Top