*** लाइव एसकेजी न्यूज़ पर आप अपने लेख, कविताएँ भेज सकते है सम्पर्क करें 9410553400, ऑफिस 01332224100 हमारी ईमेल है liveskgnews@gmail.com *** *** लाइव एसकेजी न्यूज़ पर आप अपने लेख, कविताएँ भेज सकते है सम्पर्क करें 9410553400 हमारी ईमेल है liveskgnews@gmail.com *** *** सेमन्या कण्वघाटी समाचार पत्र, www.liveskgnews.com वेब न्यूज़ पोर्टल व liveskgnews मोबाइल एप्प को उत्तराखंड, उत्तर प्रदेश, मध्यप्रदेश राजस्थान, दिल्ली सहित पुरे भारत में जिला प्रतिनिधियों, ब्यूरो चीफ व विज्ञापन प्रतिनिधियों की आवश्यकता है. सम्पर्क 9410553400 *** *** सभी प्रकाशित समाचारों एवं लेखो के लिए सम्पादक की सहमती जरुरी नही है, किसी भी वाद विवाद की स्थिति में न्याय क्षेत्र हरिद्वार न्यायालय में ही मान्य होगा . *** *** लाइव एसकेजी न्यूज़ के मोबाइल एप्प को डाउनलोड करने के लिए गूगल प्ले स्टोर से सर्च करे liveskgnews ***

राशिफल व पञ्चांग 30 दिसम्बर 2018

30-12-2018 1:24:03 By: एडमिन

अक्सर आवेदको को होना पड़ता है शिकार
उन्नाव/यूपी (संकल्प)।
एआरटीओ कार्यालय में अराजक तत्वों के कारण अब तो आवेदक कार्यालय में आने जाने में भी डरने लगे है। कब किस आवेदक को किसका शिकार होना पड़ जाए ये तो राम ही जानें। बुधवार को भी कुछ ऐसा ही कारनामा सामने आया। जहां काम कराने आए एक आवेदक और दुकानदार के बीच जमकर हाथापाई हो गयी। दुकानदार ने आवेदक की जमकर पिटाई कर दी। उसके बाद सूचना पर पहुंची पुलिस को आता देख दुकानदार मौके से भाग निकला।
    शहर के मोहल्ला पीडी नगर निवासी एक आवेदक अपना काम कराने के लिए बुधवार को कार्यालय पहुंचा। जहां आवेदक अपनी फोटो खिंचवाने के लिए कार्यालय के बाहर स्थित वीपी प्रदूषण जांच केन्द्र नाम की दुकान पर पहुंचा। फोटो खिंचवाने के दौरान दुकानदार और आवेदक के बीच पैसे के लेन देन को लेकर गहमा गहमी शुरू हो गयी। मामूली कहासुनी कुछ देर बाद मारपीट तक पहुंच गयी। दुकानदार और आवेकद के बीच मारपीट होता देख दुकानदार के अन्य समर्थक भी आवेदक को पीटने लगे। किसी तरह अन्य लोगो द्वारा बीच’-बराव करने के बाद उसे बचाया जा सका। मारपीट के दौरान आवेदक के सारे कपड़े भी फाड़ डाले गए, और उसे वहां से भगा दिया। सूचना पाकर मौके पर पहुंची चैकी पुलिस ने जांच पड़ताल की और उसके बाद वहां से चली गयी। वही अन्य आवेदको के इस घटना से काफी रोष है। उनका कहना है कि हम लोग यहां काम कराने आते है न कि मार खाने। कार्यालय के बाहर खड़ी पुलिस मूकदर्शक बनी रही।