राशिफल व पञ्चांग 28 दिसम्बर 2018

Publish 27-12-2018 18:41:58


राशिफल व पञ्चांग 28 दिसम्बर 2018

कोटद्वार । वर्तमान में जहाँ एक ओर गुरु शिष्य के संबंधों में दूरियाँ बढ़ रहीं हैं, वहीं दूसरी जनपद पौड़ी गढ़वाल के जनता इंटर कॉलेज देवराजखाल के भूतपूर्व विद्यार्थियों ने, अपने अवकाश प्राप्त गुरुजनों का सम्मान समारोह कर एक नई पहल की। दो दिन तक चले इस सम्मेलन में देश-विदेश से आये सैकड़ो विद्यार्थियों ने बढ़ चढ़कर भाग लिया। देवराजखाल में संपन्न  हुए दो दिवसीय इस कार्यक्रम की तैयारियां एक वर्ष पहले से शुरू हो गई थी। कार्यक्रम के पहले दिन क्षेत्र के 26  ग्राम सभाओं की महिला मंगल दलों, युवक मंगल दलों तथा स्कूल के विद्यार्थियों ने सांस्कृतिक कार्यक्रम एवं कविता पाठ प्रस्तुत किए। महिला मंगल दल की महिलाओं ने पारंपरिक लोकगीत थड़िया और चैफले गाए। विद्यालय के विद्यार्थियों के मध्य , सामान्य ज्ञान प्रतियोगिता, लेखन प्रतियोगिता कराई गई। प्रतियोगिता में अव्वल रहे सभी प्रतिभागियों को पुरस्कृत भी किया गया। इस मौके पर भूतपूर्व छात्रों ने अपने  खट्टे-मीठे अनुभवों को साझा किया। पहले दिन के कार्यक्रम में स्कूली बच्चों ने गढ़वाली, कुमाऊँनी, पंजाबी, सहित अन्य गीतों पर नृत्य कर वाह वाही लूटी। दूसरे दिन के कार्यक्रम में दूर-दूर से आये  गुरुजनों को ससम्मान अभिनन्दन किया गया।  इसमें मुख्य आकर्षण  , फीलगुड ट्रस्ट द्वारा तैयार की गई महिला सरैयां नृत्य रहा। फील गुड के सुधीर सुन्द्रियाल ने कहा कि, इस सरैया नृत्य के लिए लड़कियों को एक महीने के अन्दर तैयार किया गया। उनका कहना है कि आज बेटियों को हर क्षेत्र में आगे आना होगा। जब बेटियां आगे आएंगी तो उनमें आत्म  विश्वास पैदा होगा। दूसरे दिन के कार्यक्रम में उपस्थित सभी पच्चीस अवकाश प्राप्त अध्यापकों सहित विद्यालय के अन्य पैंतीस कर्मचारियों ने माँ सरस्वती के चित्र के सम्मुख दीप प्रज्वलित कर किया। इस मौके पर सभी पैंतीस विभूतियों को सम्मानित भी किया गया। इस अनूठे सम्मेलन  के  मौके पर कुछ शिक्षक ऐसे थे, जिन्होंने वहीं उपस्थित शिक्षकों से शिक्षा प्राप्त की और बाद में वहीं अध्यापक बन गए। उपस्थित लोगों और विद्यार्थियों ने जब ये अनूठा मिलन और गुरु पूजन देखा तो पंडाल तालियों से गूँज उठा। कई लोग भाव विभोर हो गए। अवकाश प्राप्त शिक्षक गिरधर सिंह रावत ने कहा कि, आज हम अपनी नैतिकता से दूर होते जा रहे हैं, गुरुओं को अपनी छवि सुधारनी होगी।  उन्होंने विद्यार्थियों से कहा कि उन्हें हमेशा अच्छा साहित्य और महान लोगों की आत्म कथाएं पढ़नी चाहिए। अमेरिका के राष्ट्रपति इब्राहिम लिंकन का उदाहरण देते हुए कहा कि बहुत कठिन दौर से गुजरने वाला वो व्यक्ति एक दिन अमेरिका का राष्ट्रपति बन गया। कहा कि असफलता के जाल में सफलता भी छुपी होती है। कार्यक्रम में अवकाश प्राप्त शिक्षक सत्यपाल सिंह नेगी, कृष्णपाल सिंह नेगी, राजे सिंह रावत ,सहित अन्य शिक्षकों ने अपने विचार रखे। कार्यक्रम संयोजक सतीश चंद्र मुंडेपी ने कहा आने वाले समय में, विद्यालय हित में इसी प्रकार के कार्यक्रम होते रहेंगे। उन्होंने बताया कि अभी भूतपूर्व छात्र संगठन की ओर से विद्यालय को, शौचालयों के लिए पचास हजार रुपये दान दिए। उन्होंने कहा कि भविष्य में विद्यालय में एक बड़ा हॉल बनाया जाएगा और विद्यालय को कंम्प्यूटर से जोड़ा जाएगा। कार्यक्रम के दौरान स्कूल की प्रथम स्मारिका ड्यूराज का भी विमोचन किया गया। इस मौके पर, दिवाकर धस्माना, यतीन्द्र धस्माना, जयदीप सिंह, सुशील कुमार , प्रशान्त ध्यानी सहित सैकड़ों विद्यार्थी  बड़े उत्साह के साथ मौजूद रहे। 

To Top