ब्रेकिंग न्यूज़ !
    *** लाइव एसकेजी न्यूज़ पर आप अपने लेख, कविताएँ भेज सकते है सम्पर्क करें 9410553400, ऑफिस 01332224100 हमारी ईमेल है liveskgnews@gmail.com *** *** लाइव एसकेजी न्यूज़ पर आप अपने लेख, कविताएँ भेज सकते है सम्पर्क करें 9410553400 हमारी ईमेल है liveskgnews@gmail.com *** *** सेमन्या कण्वघाटी समाचार पत्र, www.liveskgnews.com वेब न्यूज़ पोर्टल व liveskgnews मोबाइल एप्प को उत्तराखंड, उत्तर प्रदेश, मध्यप्रदेश राजस्थान, दिल्ली सहित पुरे भारत में जिला प्रतिनिधियों, ब्यूरो चीफ व विज्ञापन प्रतिनिधियों की आवश्यकता है. सम्पर्क 9410553400 *** *** सभी प्रकाशित समाचारों एवं लेखो के लिए सम्पादक की सहमती जरुरी नही है, किसी भी वाद विवाद की स्थिति में न्याय क्षेत्र हरिद्वार न्यायालय में ही मान्य होगा . *** *** लाइव एसकेजी न्यूज़ के मोबाइल एप्प को डाउनलोड करने के लिए गूगल प्ले स्टोर से सर्च करे liveskgnews ***

    जाने ग्रहों नक्षत्रो की चाल, कैसा रहेगा वर्ष 2019 में आपकी राशि का हाल

    31-12-2018 22:53:36 By: एडमिन

    परीक्षा सायं की पाली में आयोजित होने से शिक्षकों करना पड़ रहा परेशानियों का सामना
    कोटद्वार। राष्ट्रीय मुक्त विद्यालय संस्थान द्वारा प्राइवेट स्कूलों में अध्यापन का कार्य कर रहे शिक्षकों की डीएलएड परीक्षा आज गुरुवार से शुरू हो गई है। परीक्षा के सफल संचालन के लिए कोटद्वार में तीन केंद्र बनाए गए है। परीक्षा सायं की पाली में आयोजित होने से पर्वतीय और मैदानी क्षेत्रों से परीक्षा में सम्मिलित होने आए शिक्षकों को भारी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। 
    एनसीईआरटी द्वारा प्राइवेट स्कूलों के शिक्षकों के लिए डीएलएड अनिवार्य करने के बाद प्राइवेट स्कूलों में अध्यापन का कार्य कर रहे शिक्षकों द्वारा डीएलएड के लिए आवेदन किया गया था। राष्ट्रीय मुक्त विद्यालय संस्थान द्वारा गुरूवार से परीक्षाएं आयोजित की गई। परीक्षा का समय सांय ढ़ाई से साढ़े पांच बजे तक आयोजित की जा रही है। परीक्षा में देहरादून, हरिद्वार, रूड़की के अलावा पर्वतीय क्षेत्र से भी बड़ी संख्या में कोटद्वार पहुंचे, लेकिन परीक्षा सांय की पाली में आयोजित होने से दूर-दराज से आने वाले शिक्षकों को वापसी करने  में भारी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। अधिकांश शिक्षकों का कहना था कि परीक्षा 11 बजे से आयोजित की जाती तो उन्हें घर वापसी का मौका मिल जाता, लेकिन मुक्त विद्यालय संस्थान ने उनके हितों का ध्यान नहीं रखा। उन्होंने कहा कि इससे उन्हें बेवजह आर्थिक नुकसान उठाने को मजबूर होना पड़ रहा है।