राशिफल व पञ्चांग 11 दिसम्बर 2018

Publish 10-12-2018 19:11:53


राशिफल व पञ्चांग 11 दिसम्बर 2018


कोटद्वार। भारत एवं नेपाल के बीच बहने वाली महाकाली नदी पर प्रस्तावित दोनों देशों की संयुक्त परियोजना पंचलेश्वर बांध का उत्तराखंड में विरोध शुरू हो गया है। चिन्हित राज्य आंदोलनकारी समिति चंपावत जनपद में प्रस्तावित पंचलेश्वर बांध निर्माण का पुरजोर विरोध करेगी। आंदोलन की रूपरेखा तैयार करने के लिए एक समिति का गठन भी किया गया है।
चिन्हित राज्य आंदोलनकारी समिति के केंद्रीय अध्यक्ष जेपी पांडे ने जारी बयान में कहा कि भारत सरकार की हिटलर शाही नीतियों और एक तरफा फैसले को कतई स्वीकार नहीं किया जाएगा। आरोप लगाते हुए कहा कि इस बांध से राज्य के तीन जनपदों पिथौरागढ़, चंपावत और अल्मोड़ा के 134 गांवों के लगभग 31 हजार परिवार प्रभावित होंगे। कहा कि प्रभावित परिवारों के सहमति के बिना यह निर्णय उन पर जबरन नहीं थोपा जाना चाहिए। उन्होंने कहा कि इस परियोजना से कुमाऊं के तीनों जनपदों को भारी नुकसान उठाना पडेगा। समिति प्रभावित परिवारों के साथ है और प्रत्येक विरोध कार्यक्रम और आंदोलन में जनता के साथ भागीदारी निभाएगी। उन्होंने कहा कि टिहरी बांध से प्रभावित परिवारों को अभी तक पूर्ण रूप से विस्थापित नहीं किया गया और जहां उन्हें विस्थापित किया भी गया है वहां राजस्व ग्राम घोषित नहीं किए गए है। उन्होंने बांध के विरोध कार्यक्रम को लेकर समिति का गठन किया है। समिति पीड़ित परिवारों से संपर्क कर आंदोलन की रूप रेखा तैयार करेगी। समिति में कुमाऊं मंडल अध्यक्ष दिनेश गुरूरानी, जनपद पिथौरागढ़ के जिलाध्यक्ष चंद्रशेखर पुनेडा, जनपद बागेश्वर के जिलाध्यक्ष पूरन सिंह रावत, केंद्रीय सचिव भुवन चंद्र कांडपाल, जनपद अल्मोड़ा के जिलाध्यक्ष कमला जोशी शामिल है।

To Top