राशिफल व पञ्चांग 10 दिसम्बर 2018

Publish 09-12-2018 19:15:16


राशिफल व पञ्चांग 10 दिसम्बर 2018

 


यह कैसा सबका साथ, सबका विकास

 कोटद्वार, गढ़वाल /उत्तराखण्ड | मोदी सरकार जहां एक ओर सबका साथ सबका विकास की बात कर रही है, वहीं दूसरी ओर प्रदेश भाजपा सरकार के अधिकारी गरीबों पर रौब गालिब कर उन्हें मरने के लिए मजबूर कर रहे हैं। जी हां हम बात कर रहे हैं शहर के सबसे चर्चित मार्ग गोखले मार्ग की जहां अतिक्रमण हटाने के नाम पर नगर निगम के होनहार कर्मचारी उपजिलाधिकारी के साथ पहुंचे। लघु व्यापारियों के उधार में लाए गए सब्जियों को प्रशासन ने कूडे की गाड़ी में डाल दिया। प्रशासन की कार्यवाही को देखकर ये गरीब आदमी न तो ढंग से रो भी नहीं पाया, लेकिन कर भी क्या सकते है हुकुम ऊपर वाले का है जिसका जोर गरीबों पर चलता है।
बढ़ती मंहगाई की मार में गरीब आदमी को अपने परिवार के भरण-पोषण के लिए क्या-क्या जतन नहीं करने पड़ते। दिन भर हाथ-पांव वह इस उम्मीद से मारता है कि शाम को उसके परिवार को दो निवाले नसीब हो जाएं और इसी उम्मीद के साथ प्रतिदिन कोटद्वार नगर की सीमा से सटे जनपद बिजनौर के नजीबाबाद क्षेत्र के लोग कोटद्वार पहुंचते है। नजीबाबाद या कीरतपुर से उधार में सब्जियां खरीदकर वे इस उम्मीद के साथ कोटद्वार बेचने आते हैं कि शाम को जहां वह अपना उधार चुकता कर देंगे, वहीं शाम को उनके बच्चों को दो निवाले भी नसीब हो जाएंगे। इस उम्मीद को पूरा करने के लिए वे गर्मी हो चाहे बरसात या फिर कड़कड़ाती ठंड दिनभर गोखले मार्ग पर सड़क किनारे फड़ लगाकर सब्जियां बेचते हैं और रात नौ बजे बाद वापस नजीबाबाद जाते हैं, कई व्यापारियों को तो माल न बिकने पर यहीं रूकना पड़ता है और अगले दिन माल बिकने के बाद ही वापस परिवार के बीच लौटते हैं। फड़ लगाने के बाद उसके मन में यह भय चलता रहता है कि जाने कब और किस वक्त स्थानीय प्रशासन इस उम्मीद को रौंद दे। उसका यह भय गलत भी नहीं होता क्योंकि अवैध अतिक्रमण हटाने के नाम पर आए दिन इन लघु व्यापारियों पर स्थानीय प्रशासन का ही डंडा चलता है। जबकि नगर में सबसे ज्यादा अतिक्रमण बड़े व्यापारियों द्वारा किया गया है, लेकिन ऊंची पहुंच और सफेद पोश लोगों के वरद हस्त के चलते स्थानीय प्रशासन उन पर हाथ डालने से कतराता रहा है। प्रशासन की बात करें तो इन व्यापारियों के लिए आज तक फड़ लगाने के लिए जगह तक की व्यवस्था नहीं कर पाया है। यदि इन व्यापारियों को प्रशासन फड़ लगाने के लिए जगह मुहैया करा दे तो प्रशासन भी चैन की सांस ले और अतिक्रमण के नाम पर प्रशासन द्वारा इन व्यापारियों का शोषण भी बंद हो जाता। नगर निगम प्रशासन द्वारा इस मार्ग पर अतिक्रमण रोकने के लिए एक कर्मचारी को नियुक्त भी किया गया है, लेकिन वह भी डंडा लेकर एक जगह बैठा रहता है और नगर निगम का कर्मचारी होने की धौंस जमाकर दिन भर फल सब्जियां खाकर मजे लेता हुआ ही नजर आता है।

 

To Top