राशिफल व पञ्चांग 01 जनवरी 2019

Publish 31-12-2018 22:24:58


राशिफल व पञ्चांग 01 जनवरी 2019

कोटद्वार । विश्व प्रकृति निधि भारत तराई आर्कलैण्ड स्केप डब्ल्यू डब्ल्यू एफ के सौजन्य से लैन्सडौन वन प्रभाग के समस्त फ्रन्ट लाईन स्टाफ को अग्नि प्रबन्धन के सम्बंध में प्रशिक्षण कार्यक्रम का आयोजन अराण्य सभागार पनियाली वन परिसर में आयोजित किया गया। प्रशिक्षण कार्यक्रम के अन्तर्गत वनों में लगने वाली आग के कारणों और निवारण पर वैज्ञानिक तरीके प्रबंधन के सम्बंध में डा. राजीव श्रीवास्तव , प्रमुख वन संरक्षक, तमिलनायडु द्वारा प्रशिक्षण दिया गया तथा बताया कि वनों में अग्नि लगाने से कार्बन की मात्रा बढ़ रही है तथा आग लगने से बडे पेडों को तो कुछ नुकसान नही होता लेकिन जैव विविधता के मुख्य कारक बहुमूल्य जडी बूटी नष्ट हो जाती है। वन्य जन्तुओं को भी इसका बहुत नुकसान होता है। जिससे परिस्थितिक संतुलन बिगड़ जाता है इसके लिए प्रत्येक प्रभाग में एक डिजास्टर मैनेजमैन्ट स्टेशन होना अति आवश्यक है जिससे हर समय काफी संख्या में वाहन कर्मचारी तथा आग बुझाने के यंत्र होने आवश्यक है। कहा कि प्रत्येक प्रभाग स्तर पर फायर डेन्जर रीडिंग की सुविधा होनी आवश्यक है जिससे आग लगने की संभावनाओं का पता लगाया जा सके। उन्होने बताया कि किस प्रकार तमिलनायडु में अग्नि सुरक्षा पर अच्छा कार्य किया गया है तथा वहां पर जनता को जागरूक करते हुए समतियां बनाई गयी है। इसी प्रकार की समितियां उत्तराखंड में भी बनायी जाये तथा जनता को इस बारे में जागरूक किया जाये कि जंगलों में आग लगने पर उन भी कितना गलत प्रभाव पडेगा जब तक जनता वनों के बारे में अपनी जिम्मेदारी नही समझेगी  तब तक केवल कर्मियों द्वारा वनों में आग को रोकना एक कठिन कार्य है। कार्यक्रम की अध्यक्षता प्रभागीय वनाधिकारी संतराम ने की। इस अवसर पर एके सिंह, जन्मजय मिश्रा, डा. बोपन्ना, बीएस तोमर, हेमशंकर मैन्दोला, चन्दर सिंह नेगी, गिरीश चन्द्र बेलवाल, वन क्षेत्राधिकारी सत्यप्रकाश कण्डवाल, किशोर नोटियाल, अनुराग जुयाल, चन्द्रमोहन सिंह, अमर सिंह, मदनलाल, सूर्यप्रकाश, गजपाल राणा आदि थे। 

To Top