ब्रेकिंग न्यूज़ !
    *** लाइव एसकेजी न्यूज़ पर आप अपने लेख, कविताएँ भेज सकते है सम्पर्क करें 9410553400 हमारी ईमेल है liveskgnews@gmail.com *** *** सेमन्या कण्वघाटी समाचार पत्र, www.liveskgnews.com वेब न्यूज़ पोर्टल व liveskgnews मोबाइल एप्प को उत्तराखंड, उत्तर प्रदेश, मध्यप्रदेश राजस्थान, दिल्ली सहित पुरे भारत में जिला प्रतिनिधियों, ब्यूरो चीफ व विज्ञापन प्रतिनिधियों की आवश्यकता है. सम्पर्क 9410553400 *** *** सभी प्रकाशित समाचारों एवं लेखो के लिए सम्पादक की सहमती जरुरी नही है, किसी भी वाद विवाद की स्थिति में न्याय क्षेत्र हरिद्वार न्यायालय में ही मान्य होगा . *** *** लाइव एसकेजी न्यूज़ के मोबाइल एप्प को डाउनलोड करने के लिए गूगल प्ले स्टोर से सर्च करे liveskgnews ***

    सोमवार को नही बुधवार को होती है भगवान शिव की पूजा , पढ़े पूरा समाचार

    12-07-2019 12:43:23

    लखनऊ /उत्तर प्रदेश (रघुनाथ प्रसाद शास्त्री): खासतौर पर शिव मंदिरों में सोमवार को भगवान शिव की विशेष पूजा की जाती है। लेकिन बुद्धेश्वर महादेव मंदिर में बुधवार को विशेष पूजा की जाती है। सोमवार का दिन भगवान भोलेनाथ का दिन माना जाता है। कहा जाता है कि इस दिन भगवान शिव की पूजा करने से सभी मनोकामनाएं पूरी होती है। लेकिन एक ऐसा शिव मंदिर भी है जहां सोमवार को नहीं बुधवार को भोलेनाथ की विशेष पूजा की जाती है।


    उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में एक शिव मंदिर है, वैसे तो लखनऊ में कई शिव मंदिर है लेकिन इस शिव मंदिर की विशेषता ही अलग है। इस मंदिर की खासियत ये है कि यहां शिवजी की पूजा का बुधवार का विशेष महत्व है। इस मंदिर को बुद्धेश्वर महादेव मंदिर  के नाम से जाना जाता है। यह मंदिर लखनऊ के मोहान रोड पर स्थित है। मंदिर के बारे में बताया जाता है कि इस मंदिर की स्थापना भगवान श्रीराम के छोटे भाई लक्ष्मण ने की थी। आर्थात यह त्रेतायुग से निर्मित है।

    बुद्धेश्वर नाम कैसे पड़ा?
    पौराणिक कथाओं के अनुसार, भगवान राम के आदेश पर लक्ष्मण माता सीता को वन से छोड़ने  अयोध्या से  परिहर बिठूर जा रहे थे तब उन्हें माता सीता की सुरक्षा को लेकर चिंता होने लगी। कहा जाता है कि लक्ष्मण ने इस स्थान पर भगवान शिव का ध्यान किया। उसके बाद भगवान भोलेनाथ प्रकट होकर लक्ष्मण को दर्शन दिये और माता सीता के विराट स्वरूप का दर्शन कराया। बताया जाता है कि जिस दिन भगवान शिव ने लक्ष्मण को दर्शन दिये थे उस दिन बुधवार था। यही कारण है कि यहा स्थापित शिवलिंग को बुद्धेश्वर महादेव के नाम से जाना जाता है।

    मंदिर के पास में है सीता कुंड है
    पौराणिक कथा के अनुसार, जब लक्ष्मण भगवान शिव की साधना कर रहे थे तब माता सीता यहां पर स्थित कुंड में हाथ-पैर धोकर कुछ समय अराम किया था। उसी वक्त से इस कुंड का नाम सीता कुंड पड़ गया। यहां आने वाले शिव भक्त पहले बुद्धेश्वर महादेव का दर्शन करते हैं फिर सीता कुंड का भी पूजन करते हैं।

    बुधवार को होती है विशेष पूजा
    खासतौर पर शिव मंदिरों में सोमवार को भगवान शिव की विशेष पूजा की जाती है। लेकिन बुद्धेश्वर महादेव मंदिर में बुधवार को विशेष पूजा की जाती है। बुधवार को इस मंदिर में दूर-दूर से श्रद्धालु पहंचते हैं और महादेव का दर्शन करते हैं।