*** लाइव एसकेजी न्यूज़ पर आप अपने लेख, कविताएँ भेज सकते है सम्पर्क करें 9410553400 हमारी ईमेल है liveskgnews@gmail.com *** *** सेमन्या कण्वघाटी समाचार पत्र, www.liveskgnews.com वेब न्यूज़ पोर्टल व liveskgnews मोबाइल एप्प को उत्तराखंड, उत्तर प्रदेश, मध्यप्रदेश राजस्थान, दिल्ली सहित पुरे भारत में जिला प्रतिनिधियों, ब्यूरो चीफ व विज्ञापन प्रतिनिधियों की आवश्यकता है. सम्पर्क 9410553400 *** *** सभी प्रकाशित समाचारों एवं लेखो के लिए सम्पादक की सहमती जरुरी नही है, किसी भी वाद विवाद की स्थिति में न्याय क्षेत्र हरिद्वार न्यायालय में ही मान्य होगा . *** *** लाइव एसकेजी न्यूज़ के मोबाइल एप्प को डाउनलोड करने के लिए गूगल प्ले स्टोर से सर्च करे liveskgnews ***

आषाढ़ पूर्णिमा के दिन16 जुलाई की मध्यरात्रि के बाद 17 जुलाई को पूरे भारत में देखा जा सकेगा चंद्रग्रहण

15-07-2019 17:54:00

लखनऊ /उत्तर प्रदेश( रघुनाथ प्रसाद शास्त्री): मंगलवार को आषाढ़ पूर्णिमा के दिन16 जुलाई की मध्यरात्रि के बाद 17 जुलाई को पूरे भारत में चंद्रग्रहण देखा जा सकेगा। आषाढ़ पूर्णिमा को गुरु पूर्णिमा भी कहा जाता है जिस दिन मंदिरों में विशेष पूजन का आयोजन किया जाता है और लोग  गुरु पूजन भी करते हैं जिस पर ग्रहण का साया होने से इस दिन मंदिर के कपाट दोपहर के बाद बंद हो जाएंगे। ज्योतिष के जानकार रघुनाथ प्रसाद शास्त्री ने बताया शास्त्रों के मुताबिक चंद्रग्रहण का सूतक ग्रहण से 9 घंटे पहले शुरू होगा। इस नियम के मुताबिक भारतीय समय के अनुसार 16 जुलाई की शाम 4 बजकर 31 मिनट से ग्रहण का सूतक आरंभ हो जाएगा। सूतक से पहले ही गुरु पूर्णिमा की पूजा के बाद सभी मंदिरों के कपाट बंद कर दिए जाएंगे।
16 -17 जुलाई को ग्रहण की अवधि
गुरु पूर्णिमा पर लगने वाला यह चंद्रग्रहण खंडग्रास के रूप में दिखाई देगा। यह चंद्रग्रहण कुल 2 घंटा 59 मिनट का होगा। ग्रहण के दौरान चंद्रबिंब दक्षिण-पश्चिम की ओर से ग्रस्त होता दिखाई देगा। भारतीय समय के अनुसार यह चंद्रग्रहण 17 जुलाई को 1 बजकर 31 मिनट पर शुरू होगा और 17 जुलाई की सुबह 4 बजकर 30 मिनट पर ग्रहण का मोक्ष हो यानि समापन होगा। इस दिन चंद्रमा पूरे देश में शाम 6 बजे से 7 बजकर 45 मिनट तक उदित हो जाएगा इसलिए पूरे देश में इस ग्रहण का आरंभ, मध्य और मोक्ष देखा जा सकेगा। ग्रहण का स्पर्श उत्तराषाढ़ा नक्षत्र के प्रथम चरण धनु राशि मे होगा और मोक्ष उत्तराषाढ़ा नक्षत्र के द्वितीय चरण मकर राशि में होगा। अतः इस नक्षत्र राशि मे जन्म लेने वालों को सावधानी रखनी चाहिए। रात में 1:31 बजे से मोक्ष काल 04:30 बजे तक लगने वाले चन्द्र ग्रहण का धार्मिक के साथ साथ ग्रहीय दृष्टि से भी अत्यंत महत्त्व रहेगा।