*** लाइव एसकेजी न्यूज़ पर आप अपने लेख, कविताएँ भेज सकते है सम्पर्क करें 9410553400 हमारी ईमेल है liveskgnews@gmail.com *** *** सेमन्या कण्वघाटी समाचार पत्र, www.liveskgnews.com वेब न्यूज़ पोर्टल व liveskgnews मोबाइल एप्प को उत्तराखंड, उत्तर प्रदेश, मध्यप्रदेश राजस्थान, दिल्ली सहित पुरे भारत में जिला प्रतिनिधियों, ब्यूरो चीफ व विज्ञापन प्रतिनिधियों की आवश्यकता है. सम्पर्क 9410553400 *** *** सभी प्रकाशित समाचारों एवं लेखो के लिए सम्पादक की सहमती जरुरी नही है, किसी भी वाद विवाद की स्थिति में न्याय क्षेत्र हरिद्वार न्यायालय में ही मान्य होगा . *** *** लाइव एसकेजी न्यूज़ के मोबाइल एप्प को डाउनलोड करने के लिए गूगल प्ले स्टोर से सर्च करे liveskgnews ***

भगवान तुंगनाथ की डोली पहुंचने पर किया भव्य स्वागत

12-01-2019 18:41:40


अल्मोड़ा  |  प्रसव पूर्व लिंग परीक्षण के मामलो में हमें कड़ी कार्यवाही सुनिश्चित करनी होगी यह बात जिलाधिकारी इवा आशीष श्रीवास्तव ने जिला कार्यालय में आयोजित पी0सी0पी0एन0डी0टी0 की एक बैठक के दौरान कही। उन्होंने कहा कि अल्ट्रा साउण्ड केन्द्रों में समय-समय पर औचक निरीक्षण किया जाय। जिलाधिकारी ने कहा कि जनपद में समस्त सरकारी एवं गैर सरकारी संस्थानों में जहॉ पर चिकित्सा सम्बन्धी प्रयोगशाला एवं अन्य कोई क्रिया-कलाप किये जाते है उनका पंजीकरण करना अनिवार्य है। शासन के दिशा निर्देशो का पालन कराये जाने हेतु ऐसे समस्त संस्थानों का आफ लाइन या आन लाईन पंजीकरण मुख्य चिकित्साधिकारी कार्यालय में सुनिश्चित कराया जाय। उन्होंने कहा कि नैधानिक स्थापन रजिस्ट्रेशन विनियमन अधिनियम 2010 के अन्तर्गत समस्त सरकारी एवं गैर सरकारी संस्थानों में जहॉ पर चिकित्सा सम्बन्धी प्रयोगशाला एवं अन्य कोई क्रिया-कलाप किये जाते है उनका पंजीकरण करना अनिवार्य है।   जिलाधिकारी ने निर्देश दिये कि जनपद में समस्त गैर एवं सरकारी संस्थानों जहॉ पर चिकित्सकीय क्रिया-कलाप किये जा रहे हैं उनका निरीक्षण करना सुनिश्चित करें और चिकित्सकीय व्यवसाय करने वाले अपंजीकृत व्यवसायियों के विरूद्व आवश्यक कार्यवाही अमल में लायी जाय। उन्होंने कहा कि नैधानिक स्थापन रजिस्ट्रेशन विनियमन अधिनियम 2010 के अन्तर्गत बिना पंजीकरण के संचालित किये जाने वाले संस्थान पर 05 लाख तक का जुर्माना किया जा सकता है।
    इस बैठक में उन्होंने कहा कि जिन स्थानों से प्रसव पूर्व लिंग परीक्षण की शिकायतें प्राप्त होती है उन संस्थानों पर विशेष नजर बनाये रखने की जरूरत है साथ ही नियमित निरीक्षण के अलावा वहॉ औचक निरीक्षण किये जाय। इस बैठक में जिलाधिकारी ने कहा कि दो वर्ष से पुराने फार्म एफ0 को नियमानुसार निस्तारण करने की कार्यवाही भी सुनिश्चित की जाय। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि सभी केन्द्र पैकिंग डिवाईस उपयोग में ला रहे है या नहीं इसका भी निरीक्षण किया जाय। बैठक में अनेक केन्द्रों के आवेदनो पर चर्चा की गयी। जिलाधिकारी ने कहा कि इन आवेदनो पर भली-भॉति परीक्षण कर नियमानुसार स्वीकृति प्रदान की जाय।
    इस बैठक में अपर मुख्य चिकित्साधिकारी डा0 ए0के0 सिंह, प्रमुख चिकित्सा अधीक्षक डा0 निशा पाण्डे, डा0 बृजेश बिष्ट, डा0 मधु माथुर, गोपाल सिंह चौहान, भुवन सिंह बिष्ट, एम0सी0 नैनवाल आदि उपस्थित थे।