भगवान तुंगनाथ भ्रमण पर भक्तों में छाया उत्साह

Publish 05-01-2019 17:43:55


भगवान तुंगनाथ भ्रमण पर भक्तों में छाया उत्साह

चिटगल,गंगोलीहाट(पिथौरागढ़)।  ईष्ट सैम देवता व माता गुसाणी के धाम चिटगल के उखराणी आंगन में आयोजित भागवत कथा के तीसरे दिन प्रसिद्व कथावाचक डा० विनोद जोशी ने श्रद्वालुओं के अपार जनसमूह पर कथा की अमृतवर्षा करते हुए कहा ब्यास जी ने 17 पुराणों की रचना कर ली लेकिन श्रीमद्भागवत कथा लिखने पर ही उन्हें सन्तोष हुआ। फिर ब्यास जी ने अपने पुत्र शुकदेव जी को श्रीमद्भागवत पढ़ायी, तब शुकदेव जी ने राजा परीक्षित को जिन्हें सात दिन में मरने का श्राप मिला, उन्हें सात दिनों तक श्रीमद्भागवत की कथा सुनायी। जिससे राजा परीक्षित को सात दिन में मोक्ष की प्राप्ति हुयी।
*🌹उन्होनें कहा श्रीमद्भागवत करने से पित्रों का उद्धार हो जाता है। भागवत पुराण करवाने वाला अपना उद्धार तो करता ही है अपितु अपने सात पीढि़यों का उद्धार कर देता है। पापी से पापी व्यक्ति भी यदि सच्चे मन से श्रीमद्भागवत की कथा सुन ले तो उसके भी समस्त पाप दूर हो जाते हैं*। 
मानव जीवन सबसे उत्तम और अत्यन्त दुर्लभ है। श्रीगोविन्द की विशेष कृपा से हमें मानव-योनि मिली हैं। भगवान के भजन करने के लिये ही हमें यह जीवन मिला है और श्रीमद्भागवत कथा सुनने से या करने से हम अपना मानव जीवन में जन्म लेना सार्थक बना सकते हैं। लेकिन हमें हर प्रकार से अंहकार का त्याग करना होगा।

To Top