हुआ बदलाव, अब इस वर्ष एक जून को खुलेंगे अब हेमकुंड के कपाट

Publish 24-03-2019 16:09:24


हुआ बदलाव, अब इस वर्ष एक जून को खुलेंगे अब हेमकुंड के कपाट


फतेहपुर चौरासी,उन्नाव (रघुनाथ)। गंगा नदी में बाढ़ के बढ़ते प्रकोप को  देखते हुए  जिला अधिकारी ने  एक सप्ताह के अंदर  आज पुनः  दूसरी बार  गंगा कटरी के बाढ़ पीड़ित गांवों का  दौरा किया  ।उन्होंने  विभिन्न गांव में पहुंचकर बाढ़ पीड़ितों के  सुरक्षा के  मुक्कमल इंतजाम करने के लिए संबंधित अधिकारियों को निर्देश दिए  और  तत्काल रुप से  राहत सामग्री  वितरण करने के  लिए  भी निर्देश दिए  ।उन्होंने विभिन्न गांव के बाढ़ पीड़ितों को  आश्वासन दिया कि  किसी भी बाढ़ पीड़ित की  समस्या  प्रशासन की समस्या है और जिसके निराकरण के लिए  प्रशासन के अधिकारी कर्मचारी  निरंतर  अपनी  निगाह बनाए हुए हैं। किसी भी को  डरने और घबराने की जरूरत नहीं है ।


      आज मंगलवार को गंगा कटरी क्षेत्र के लोगों ने बताया बाढ़ की स्थिति बहुत ही भयावह होती जा रही हैं ।ग्राम पंचायत दबौली के प्रधान सुनील यादव ने बताया कि कल से आज तक पानी में कोई बढ़ोतरी नहीं हुई है। जबकि उप जिलाधिकारी बांगरमऊ प्रदीप कुमार ने बताया कि आज जलस्तर बढ़ सकता है ।प्रशासन के लोग पूरी तरह से मुस्तैद हैं। किसी को कोई दिक्कत नहीं होने दी जाएगी। शासन-प्रशासन राहत एवं बचाव कार्य करने में लगा हुआ है। जो भी समस्याएं बाढ़ पीड़ितों की हम तक पहुंचेगी उनका पूर्ण समाधान किया जाएगा। उधर बांगरमऊ तहसील क्षेत्र से लेकर सफीपुर तहसील क्षेत्र के भूड्डा ,सतुआही ,कुंस्सी, संतन बंगला, चिरंजू पुरवा, जाजमऊ , परसादी पुरवा के बाद अब गंगा का बढ़ता जलस्तर अख्तियारपुर ,गंगादास पुर ,लावनी,विजय खेड़ा ,पंडित खेड़ा, इस्माइलपुर ,नौगवां आदि सहित गंगा कटरी के तमाम गांव तक पहुंच गया है। बाढ़ की विकरालता को देखते हुए पूर्व में जिलाधिकारी देवेंद्र पांडे ने शनिवार को फतेहपुर चौरासी से हिंदूपुर तक सड़क के आसपास बाढ़ पीड़ित गांवों के क्षेत्रों में पहुंचकर वहां के बाढ़ ग्रसित लोगों के समस्याओं की जानकारी ली थी और संबंधित राजस्व कर्मचारियों को बाढ़ पीड़ितों की हर संभव मदद करने और राहत सामग्री वितरण किए जाने की निर्देश दिए थे ।

जिला अधिकारी ने आज पुनःदूसरी बार बांगरमऊ तहसील के हफीजाबाद से जाने वाले बरुआ घाट मार्ग से होते हुए बांगरमऊ के नानामऊ मार्ग पर पहुंचकर दोनों मार्गों के आसपास बाढ़ प्रभावित ग्रामों के बाढ़ पीड़ितों की विभिन्न समस्याओं की जानकारी ली और बाढ़ राहत सामग्री के साथ ही बाढ़ के दौरान होने वाली विभिन्न बीमारियों से बचने के लिए स्वास्थ्य विभाग को गांव-गांव शिविर लगाकर आवश्यक दवाएं और उपचार करने के लिए निर्देश दिए। फतेहपुर चौरासी के प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र के प्रभारी चिकित्सा अधिकारी प्रेम कुमार ने हिंदूपुर गांव में बाढ़ पीड़ितों में दवाओं का वितरण किया। इसी तरह से स्वास्थ्य विभाग की अलग-अलग टीमों ने गांव-गांव शिविर लगाकर दवाओं का वितरण शुरू कर दिया है। राजस्व अमले ने बाढ़ पीड़ितों में राशन सामग्री, मोमबत्ती ,रोशनी और आवश्यक वस्तुओं का वितरण किया है। आवश्यकता वाले स्थानों पर और नावें लगाने के लिए प्रशासन ने बाहर से नावें  मंगा कर बाढ़ पीड़ितों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाने के लिए अपनी कार्यवाही तेज कर दी है ।बाढ़ की भयंकर विनाश लीला और इंद्रदेव के प्रकोप से गंगा कटरी क्षेत्र में हाय तोबा की स्थिति बन गई है। एक तरफ जहां लोग अपनी ग्रहस्ती का सामान समेट कर ऊंचे स्थानों और सड़कों के किनारे अपना बसेरा बना रहे हैं। वही गांव-गांव संक्रामक रोगों ने भी पैर पसारना शुरू कर दिए हैं। क्षेत्र के ग्राम अतिया में बड़ी तेजी के साथ संक्रामक रोगों ने पैर पसारना शुरू कर दिया है और बताया जाता है कि इस गांव में एक व्यक्ति की मौत भी संक्रामक रोगों से हो चुकी है। स्वास्थ्य विभाग की एक टीम इस गांव में सुबह से ही अपना डेरा जमाए हुए रोग ग्रसित लोगों में इलाज करने में व्यस्त होना बताई जा रही है।

To Top