सरजमीं ऐ हिन्द की ओर अपनी नापाक नजर से देखने वाले जिंदा नहीं रहने चाहिए - राजपाल रावत

Publish 26-02-2019 14:54:02


सरजमीं ऐ हिन्द की ओर अपनी नापाक नजर से देखने वाले जिंदा नहीं रहने चाहिए - राजपाल रावत


अल्मोड़ा 04 अगस्त, जैंती-तहसील परिसर में मार्च माह में विभिन्न मुद्दों को लेकर छात्र संघ पदाधिकारियों व छात्र-छात्राओं के धरने-प्रदर्शन के दौरान विभागीय अधिकारियों से हुई वार्ता में लिए गए निर्णयों में कोई अमल नही होने से छात्र नेताओं में शासन-प्रशासन व संबंधित विभागों की कार्यशैली के खिलाफ जबरदस्त आक्रोश है। छात्र संघ ने प्रशासन को ज्ञापन सौंपकर समस्याओं का निराकरण नही होने पर 10 अगस्त से तहसील परिसर में पुनः धरना-प्रदर्शन शुरू करने का ऐलान कर दिया है।
उल्लेखनीय है कि पूर्व में जैती तहसील परिसर मे मार्च माह में छात्र संघ जैती के पदाधिकारियों और छात्र-छात्राओं के धरने प्रदर्शन के बाद शिक्षा विभाग, लोनिवि, आँगनवाड़ी, स्वास्थ्य विभाग, संस्कृति विभाग, विद्युत विभाग के अधिकारियों ने छात्र संघ जैती को जो आश्वासन दिये थे वह आज की तारीख तक पूरे नही हुए। जिस पर आज छात्र संघ जैती के कार्यकर्ताओं ने तहसील प्रशासन के माध्यम से मुख्यमंत्री व उच्च शिक्षा मंत्री को ज्ञापन भेजा। जिसमें कहा गया है कि आश्वासन के पांच माह बीत जाने के बाद शिक्षा विभाग को तो नींद आ गई है। इधर तहसील के हाईस्कूल व इंटर कॉलेजो मे पढ़ाईकृलिखाई का फिर से वही दौर शुरू हो गया है। बच्चे व अध्यापक विद्यालय समय में बाजार में घूमते दिखाई देते हैं। लमगड़ा ब्लॉक के जैंती तहसील की सड़कों में करीब दो माह पूर्व गड्ढों को भरने का कार्य समाप्त हो चुका है। बारिश हुई ही नही लेकिन भरे हुए गड्ढे फिर से उखड़ने लग गये हैं। जिसके कारण सड़कों में दुर्घटना होने की संभावना फिर से शुरू हो गई है। ऐसी स्थिति को देखकर जैती छात्र संघ के पदाधिकारी के मन मे सवाल उठना लाजमी है कि हमे तो पत्र भेजकर ये आश्वस्त कर दिया गया है कि तहसील क्षेत्र के सड़को के गड्ढों को अच्छी तरह से सही कर दिया गया है लेकिन जब छात्र संघ जैती के अध्यक्ष और उनके साथियों ने ये दृश्य देखा तो उनके मन मे फिर से आन्दोलन कर भ्रष्टाचारियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करने का प्लान सुझ रहा है। छात्र संघ जैती के अध्यक्ष देवेन्द्र सिंह बिष्ट ने कहा कि सत्रह सूत्रीय मांगो मे भी विभाग द्वारा कोई ठीक-ठीक कार्यवाही नही की जा रही है। क्योंकि जैती तहसील के विद्यालयों व आंगनवाड़ियो में न तो औचक निरीक्षण हो रहा, न ही सड़कों के गड्ढो का भरने का कार्य सही तरीके से हुआ, न ही महाविद्यालय मे अध्यापक आये, न ही विद्यालयो मे प्रधानाचार्य और अध्यापक आये, जिला शिक्षाधिकारी के द्वारा दिये गये आश्वासन पर विद्यालयों मे विज्ञान वर्ग की कक्षाए भी अब तक प्रारंभ नहीं हुई हैं। मांगों के संबंध में पूर्व में संबंधित विभाग के अधिकारियों ने पूर्व में जो आश्वासन दिये थे, वो समयानुसार अब तक पूर्ण नही हो सके हैं। छात्र संघ जैंती ने ज्ञापन में अपनी नाराजगी व्यक्त करते हुए कहा कि किसी भी विभाग के द्वारा अब तक कोई उचित एवं संतोषजनक कार्यवाही नही हो सकी है, अतः 10 अगस्त 2018 तक कोई कार्यवाही न होने की स्थिति में पहले की अपेक्षा और अधिक उग्र आंदोलन शुरू कर दिया जाएगा। इस मौके पर छात्र संघ अध्यक्ष सहित दीपक पटवाल, इंद्रा शर्मा, ललिता जोशी, कंचना रौतेला, सविता पंत, सरिता पंत, मोनिका पाण्डे आदि मौजूद रहे।

 

To Top