*** लाइव एसकेजी न्यूज़ पर आप अपने लेख, कविताएँ भेज सकते है सम्पर्क करें 9410553400 हमारी ईमेल है liveskgnews@gmail.com *** *** सेमन्या कण्वघाटी समाचार पत्र, www.liveskgnews.com वेब न्यूज़ पोर्टल व liveskgnews मोबाइल एप्प को उत्तराखंड, उत्तर प्रदेश, मध्यप्रदेश राजस्थान, दिल्ली सहित पुरे भारत में जिला प्रतिनिधियों, ब्यूरो चीफ व विज्ञापन प्रतिनिधियों की आवश्यकता है. सम्पर्क 9410553400 *** *** सभी प्रकाशित समाचारों एवं लेखो के लिए सम्पादक की सहमती जरुरी नही है, किसी भी वाद विवाद की स्थिति में न्याय क्षेत्र हरिद्वार न्यायालय में ही मान्य होगा . *** *** लाइव एसकेजी न्यूज़ के मोबाइल एप्प को डाउनलोड करने के लिए गूगल प्ले स्टोर से सर्च करे liveskgnews ***

मानसून से पहले अलर्ट : रामगंगा बांध प्रशासन द्वारा बाढ चेतावनी जारी

08-06-2019 20:30:45

कालागढ़ ।  मानसून आने वाला है जिसके मद्देनजर बाढ की आशंका के चलते कालागढ स्थित रामगंगा बांध प्रशासन द्वारा बाढ चेतावनी जारी कर दी गयी है । यूपी के चार मण्डलों सहित सात जनपदों के प्रशासनिक तथा विभागीय अधिकारियों से सतर्कता बरतने को कहा गया है।
कालागढ़ रामगंगा बांध के अधीक्षण अभियंता आरके अग्रवाल द्वारा जारी बाढ चेतावनी में यूपी के जिला बिजनोर, मुरादाबाद, ज्योतिबाफूले नगर, रामपुर, शाहजहांपुर तथा फर्रूखाबाद के जिलाधिकारियों के अलावा मेरठ, मुरादाबाद, बरेली व कानपुर के मण्डलायुक्तों तथा पुलिस उपमहानिरीक्षकों से कहा गया है कि रामगंगा बांध निर्माण के बाद जा सामान्य की धारणा बन गयी है कि अब नदी में बाढ नहीं आयेगी। जिसके चलते लोगों ने नदी के बहाव क्षेत्र में खेती का विस्तार कर लिया है। सितम्बर 1978 तथा 1990 के अलावा 2010 में जलाशय भरा होने के कारण नदी में बाढ आने की दशा में रामगंगा नदी के जलको बांध से नीचे नदी में ही छोडना पडा था। जिससे नदी के बहाव क्षेत्र में स्थित खेती तथा इसके आसपास स्थित काफी आवादी को काफी क्षति हुई थी। इसके अलावा कहा गया है कि इसके साथ ही ग्रामीणों द्वारा नदी की तलहटी में भी खेती शुरू करके व्यापक रूप से नदी के बहाव क्षेत्र को बाधित कर दिया गया है।
बांध प्रशासन द्वारा अपरिहार्य परिस्थितियों में हरेवली बैराज तथा शेरकोट स्थित खो बैराज से भी पानी की निकासी किये जाने की सम्भावना व्यक्त की गयी है। बीते वर्ष की तरह इस वर्ष भी बाढ से निपटने  के लिये मानसून से पहले रामगंगा बांध मण्डल द्वारा जारी चेतावनी में वर्षाकाल से पूर्व ही बाढ से सुरक्षा के प्रबंध करके रामगंगा नदी क्षेत्र के बाढ से प्रभावित होने वाले व्यक्तियों को सूचित करके उनको समय रहते नदी के बहाव क्षेत्र से हटाने के लिये कहा गया है। जिससे जान व माल की हानि न हो तथा कानून व्यवस्था बनी रहे। जलाशय की अधिकतम निर्धारित भण्डारण क्षमता 365.300 मीटर है। लेकिन जलाशय का जलस्तर 355 मीटर होने की स्थिति में इसकी सूचना तत्काल सम्बंधित प्रशासनिक अधिकारियों को उपलब्ध करा दी जायेगी। ताकि समय रहते सम्भावित प्रभावित क्षेत्रों में बाढ सुरक्षा की व्यवस्था की जा सके। इसके अलावा परिपत्र में कहा गया है कि जलाशय का जलस्तर 355 मीटर होने के बाद किसी भी समय नदी में पानी छोडने की आवश्यकता हो सकती है।