उर्गम की सडक भी बनी दुर्गमः दलदल के कारण गाड़ी नही खच्चरों से पहुंच रहा सामान

Publish 06-03-2019 19:46:36


उर्गम की सडक भी बनी दुर्गमः दलदल के कारण गाड़ी नही खच्चरों से पहुंच रहा सामान

जोशीमठ/चमोली(संजय कुंवर)। पंच केदारों में एक केदार कल्पेश्वर धाम को जोड़ने वाली मुख्य सडक, हेलंग-कल्पेश्वर मोटर मार्ग बदहाल बना हुआ है। गाडी तो दूर पैदल चलना भी किसी जंग को फतेह करने से कम नहीं है। सडक को ठीक करवाने को लेकर बुधवार को ग्रामीणों ने तहसील जोशीमठ पहुंचकर उपजिलाधिकारी को एक ज्ञापन सौंपा।


पीएमजीएसवाई के तहत निर्मित हेलंग-कल्पेश्वर मोटर मार्ग हेलंग से ही कई स्थानों पर क्षतिग्रस्त हो रखी है। उर्गम घाटी के दर्जनो गांवों के लोगो की एकमात्र लाइफ लाइन बनी इस सड़क हादसों को न्यौता दे रही है। आजकल भी बारिश और बर्फबारी के बाद यहां सड़क खस्ताहाल बनी हैं। कभी भी कोई बड़ा हादसा हो सकता है, लोग बदहाल मोटर मार्ग से जान जोखिम में डाल सफर करने को मजबूर है। उर्गम घाटी के सामाजिक कार्यकर्ता  रघुवीर सिंह नेगी का कहना है कि पीएमजीएसवाई ने इस सडक के निर्माण का कार्य एक प्राइवेट कंपनी जितेंद्र कंस्ट्रशन को सौंपा है। मोटर मार्ग के बने 18 वर्षों के बाद भी अभी तक आरटीओ पास नहीं हो पायी है। यही नहीं इसी कंपनी को पुनः भी इसी साढे चार किमी ल्यारी- कल्पेश्वर मोटर मार्ग का अतिरिक्त काम दिया गया। इस मार्ग पर अभी तक ल्यारी गांव तक ही छोटे वाहन जाते है। सडक इतनी खास्ता हाल में है कि  लोग अपनी रोजमार्रा की सामग्री घोड़ो, खच्चरो में लाद कर ले जाने को मजबूर हैं। ग्रामीणों ने उपजिलाधिकारी को इस मोटर मार्ग को ठीक करवाने की मांग की है। कहा है कि यदि शीघ्र ही मोटर मार्ग का काम नहीं किया जाता है तो ग्रामीणों को आंदोलन के लिए बाध्य होना पडेगा।

To Top