धार्मिक आयोजन के लिए भारी बर्फ में भी अपने मायके पहुंच रही है धियाणियां

Publish 02-03-2019 17:40:36


धार्मिक आयोजन के लिए भारी बर्फ में भी अपने मायके पहुंच रही है धियाणियां

गोपेश्वर/चमोली(जगदीश पोखरियाल)। चमोली जिले के कलगोठ गांव के कोदूडिया जाख देवता पिछले छह माह से गांवों के भ्रमण पर है। 52 वर्ष बाद क्षेत्र भ्रमण पर निकले कोदूड़िया जाख देवता का भत्ता (भोज ) एक मार्च से शुरू हो गया हैै। इस समारोह में शिरक्कत करने के लिए गांव की धियाणियां (बेटियां जिनका विवाह हो चुका है) अपने मायके आ रही है। उर्गम क्षेत्र में हुई भारी बर्फवारी के बीच धियाणियां अपने मायके पहुंच रही है।
कलकोठ के जाख देवता पिछले छह माह से भ्रमण पर हैं। 10 मार्च को जाख देवता अपने गद्दी स्थल पर विराजमान होंगे। इस दौरान गांव में धार्मिक उत्सव का आयोजन किया जाता है। वहीं एक मार्च से गांव में जाख देवता का भत्ता कार्यक्रम भी शुरू हो गया है। एक मार्च को पहला गणेश जी का भत्ता लगा। दो मार्च को नारद जी, तीन मार्च को ब्रहम देव, चार मार्ग को इन्द्रदेव, पांच मार्च को बासुकी नाग, छह मार्च को नंदा माता, सात मार्च को चंडिका माता, आठ मार्च को पंचटोलिया, नौ मार्च ध्याणभत्ता तथा सांय को न्यूतारू (बाहर से बुलाये गये अतिथि) आगमन तथा रात्रि को भ्रातरा तथा मुखटा विदाई होगी। अंतिम भत्ता 10 मार्च को नारद जी का लगेगा। उसके बाद जाख देवता को विदाई दी जाएगी। कमेटी के सचिव लक्ष्मण सिंह रावत ने बताया कि गांव में एक मार्च से भत्ता कार्यक्रम शुरू हो गया है। गांव की बेटियों को व अन्य सगे संबंधियों को गांव आने का निमंत्रण दिया गया है। ग्रामीणों के साथ ही दूर दराज से भक्तजन जाख देवता के आशीर्वाद व सुख शांति की कामना के लिए कलगोठ पहुंच रहे है।

To Top