भारी बर्फवारी बन रही आलू की खेती के लिए परेशानी

Publish 17-03-2019 18:53:21


भारी बर्फवारी बन रही आलू की खेती के लिए परेशानी

गोपेश्वर/चमोली (जगदीश पोखरियाल)। चमोली जिले में इस वर्ष हुई भारी बर्फवारी के कारण इस वर्ष आलू की बुआई में समस्या पैदा हो रही है। मार्च मध्य से पहाडी क्षेत्रो में आलू की बुआई की जाती है लेकिन भारी बर्फवारी के कारण खेतों में अभी भी बर्फ जमीं होने के कारण काश्तकारों के सामने एक समस्या खडी हो गई है।


चमोली जिले के जोशीमठ, देवाल, दशोली और घाट ब्लाॅकों में काश्तकार बडे़ पैमाने पर आलू का व्यावसायिक उत्पादन करते हैं। इन क्षेत्रों में काश्तकार मार्च के मध्य से अपै्रल के मध्य तक आलू की बुआई का काम करते हैं। लेकिन इस बार काश्कतारों के सम्मुख बर्फ न पिघलने से संकट खडा हो गया है। यहां गांवों के खेतों में बर्फ जमी होने से खेतों को जोतना कठिन हो रहा है। हालांकि कुछ क्षेत्रों में काश्तकार अब बर्फ के बीच ही जुताई में जुट गये हैं। लेकिन अधिक ऊचंाई वाले क्षेत्रों में आलू की बुआई काश्तकारों के संकट बनी हुई है। काश्तकार नितिन सेमवाल, मोहन सिंह और राजे सिंह का कहना है कि खेतों में बर्फ जमी होने से खेतों में जरुरत से अधिक नमी है। जिससे खेतों को जोतना भी कठिन है साथ अधिक नमी में बुआई करने पर बीज के खराब होने का भी खतरा बना रहता है। जिससे इस वर्ष आलू की फसल को लेकर संशय की स्थिति बनी हुई है।

To Top