पूर्ति विभाग में ब्राड बैंड सेवा ठप होने से ऑनलाइन नहीं हो रहे राशन कार्ड

Publish 02-03-2019 17:33:02


पूर्ति विभाग में ब्राड बैंड सेवा ठप होने से ऑनलाइन नहीं हो रहे राशन कार्ड

गोपेश्वर/चमोली(जगदीश पोखरियाल)। चमोली जिले के  खाद्य आपूर्ति विभाग की ब्राड बैंड के बिल भुगतान न होने के कारण पूर्ति विभाग के कार्यालय सहित जिले के 12 राजकीय अन्न भंडार में संचार सेवा ठप पडी हुई है। जिससे उपभोक्ताओं को अपने राशन कार्ड ऑन लाइन नहीं करवा पा रहे है। विभाग के कर्मचारियों की ओर से संचार सेवा न होने की बात कहकर उपभोक्ताओं को बैरंग लौटाया जा रहा है। वहीं जिला पूर्ति विभाग के अनुसार ब्राडबैंड सेवा के साथ ही भंडारों में अन्य संचार सुविधाएं भी मुहैया करवाई गई हैं। लेकिन बावजूद इसके भी उपभोक्ताओं को ऑन लाइन सेवाओं के लिये खासी दिक्कतों का सामना करना पड रहा है।
बता दें, कि केंद्र सरकार की ओर से डेटा डिजीटल करने की मंशा से अब सभी सरकारी दस्तावेजों को ऑन लाइन जोडा जा रहा है। साथ ही राशन कार्ड, बैंक खातों व अन्य दस्तावेजों को भी आधार लिंक करवाया जा रहा है। ऐसे में पूर्ति विभाग की ओर से जिले में राशन कार्ड को ऑन लाइन करवाने और आधार लिंक करवाने के लिये राजकीय अन्न भंडारों में लैपटॉप उपलब्ध करा ऑन लाइन सुविधांए मुहैया करवाने का कार्य किया गया। जिसके लिये विभाग की ओर से भंडारों को ब्राड बैंड सेवा से संयोजित किया गया, लेकिन अब विभागीय कर्मचारियों की ओर से संचार सेवा की बदहाली की चलते ऑन लाइन सेवाओं के लिये उपभोक्ताओं को चक्कर कटवाये जा रहे हैं। स्थानीय निवासी नितिन सेमवाल, दीपक प्रसाद और प्रकाश सिंह का कहना है कि विभाग में इन दिनों राशन कार्ड ऑन लाइन करने का कार्य करवाया जा रहा है, परंतु विभागीय कर्मचारियों की ओर संचार सेवा न होने की बात कहकर उपभोक्ताओं को बैरंग लौटाया जा रहा है। जिससे दूर-दराज से आने वाले उपभोक्ताओं का खासी दिक्कतों का सामाना करना पड रहा है। ऐसे में उपभोक्ताओं को स्वाथ्य कार्ड व अन्य सरकारी योजनाओं का लाभ भी नहीं मिल पा रहा है।


क्या कहते है अधिकारी
राजकीय अन्न भंडारों में ऑन लाइन सेवा के संचालन के लिये बीएसएनएल की संचार लाइन से संयोजित किया गया है। साथ भंडारों में नेट शटर भी उपलब्ध कराये गये हैं। लेकिन संचार की बदहाल सेवा के चलते यहां ऑन लाइन सेवाओ के संचालन में दिक्कतें आ रही है। जिसे लेकर कई बार बीएसएनएल के अधिकारियों से पत्राचार किया गया है। लेकिन वर्तमान तक स्थिति जस की तस बनी हुई है। टेलीफोन बिल के भुगतान के लिये बजट की मांग की गई है। शीघ्र बिलों का भुगतान कर लिया जाएगा।
डीपी जोशी, जिला पूर्ति अधिकारी, चमोली।

To Top