पिकन नट उत्पादन करने वाला पहला जिला बनेगा चमोली

Publish 08-02-2019 23:22:42


पिकन नट उत्पादन करने वाला पहला जिला बनेगा चमोली

 

संस्थान का 95वें स्थापना दिवस मनाया

अल्मोड़ा  |  पर्वतीय क्षेत्र से हो रहे पलायन को रोकने के लिए हमे कृषि क्षमता विकास के साथ-साथ नई तकनीकी को ग्रामीण क्षेत्रों तक पहुचाना होगा यह बात केन्द्रीय कपड़ा राज्यमंत्री अजय टम्टा ने आज विवेकानन्द कृषि अनुसंधान संस्थान अल्मोड़ा में संस्थान के 95वें स्थापना दिवस के अवसर पर कही। उन्होंने कहा कि हिमालयन पर्यावरण संस्थान की तर्ज पर इस संस्थान को पूरे विश्व में एक नई पहचान दिलाये जाने के लिए प्रयास जारी है। इसके लिए केन्द्रीय कृषि मंत्री को यहॉ लाने की कोशिश की जायेगी। केन्द्रीय कपड़ा राज्यमंत्री ने कहा कि इस संस्थान ने अनेक उपलब्धियॉ हासिल की है जिसके फलस्वरूप यहॉ के किसानो ने अनेक क्षेत्रों में तकनीक का फायदा लेकर आत्मनिर्भरता की ओर कदम बढ़ाये है। यही नहीं संस्थान ने छोटे-छोटे उपकरणों को बनाकर कृषि को बढ़ावा देने के लिए अनेक प्रयास किये है जिसका लाभ काश्तकार उठा रहे है।
    उन्होंने कहा कि देश के यशस्वी प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने किसानो की आय 2022 तक दुगना करने का जो संकल्प लिया है वह उत्तराखण्ड के कृषि के क्षेत्र में नई तकनीक को माडल के रूप में लेकर देश के सभी राज्यों में उसे लागू करने की बात कही है यह हमारे लिए गौरव की बात है। इस अवसर पर उन्होंने विवेकानन्द संस्थान के तकनीकी विवरणिका प्रसार सामग्री का विमोचन करने के साथ ही फसल प्रजातियों का लोकार्पण किया जिसमें सी0एम0बी0एल0 बेबी कार्न 1 एवं बी0एल0 मडुवा 376 है। इस अवसर पर उन्होने यह भी कहा कि पर्वतीय क्षेत्रो में आल वेदर रोड को बनाने के साथ ही कृषि के क्षेत्र में भी नई क्रान्ति लाने का निर्णय लिया गया है। टूटा एक्सोलूटा को कृषक परिक्षेत्र में फैलने से रोकने हेतु टमाटर के विध्वसंकारी कीट से बचाव के लिए जिला प्रशासन द्वारा दिये गये सहयोग के लिए जिलाधिकारी इवा आशीष को कृषक मित्र सम्मान से नवाजा गया और उन्हें स्मृति चिन्ह दिया गया। इस अवसर पर परिसर के अनेक वैज्ञानिक, तकनीकी सहायक, सेवानिवृृत्त कर्मचारी व वर्तमान में कार्यरत् दक्ष कर्मचारियों को भी पुरस्कृत किया गया जिनमें वैज्ञानिक दिवाकर महन्ता, तकनीकी सहायक लक्ष्मीकान्त मिलकानी, भूपाल सिंह नगरकोटी, जय प्रकाश गुप्ता, तेज बहादुर पाल, मोहन सिंह रौतेला, गोविन्द सिंह बिष्ट, महेन्द्र राम, विजय कुमार, मनीषा आर्या, उषा वृद्वि, विजय सिंह मीणा आदि है।
    इस कार्यक्रम के विशिष्ट अतिथि विधानसभा उपाध्यक्ष रघुनाथ सिंह चौहान ने कहा कि हमे किसानो की समस्याओं पर विशेष ध्यान देना होगा उसके लिए संस्थान पूरी क्षमता से कार्य कर रहा है। हमे किसानो को छोटे-छोटे उपकरण एवं उन्नत बीज मुहैया कराने होंगे ताकि उनका जीवन स्तर ऊॅचा उठ सके। उन्होंने कहा कि फसलो को जंगली जानवरो से बचाने के लिए क्या तकनीक अपनायी जाय इसके लिए भी संस्थान को शोध कर उसका लाभ किसानो को दिलाना होगा तभी हम 2022 तक किसानो की आय दुगना कर पायेंगे। जिलाधिकारी इवा आशीष श्रीवास्तव ने कहा कि संस्थान द्वारा जनपद में अनेक क्षेत्रों में काश्तकारों को तकनीकी का लाभ दिलाया जा रहा है उदाहरण स्वरूप जनपद के भगरतोला में काश्तकारों द्वारा जो सब्जी उगाई जा रही उसका अनुसरण अन्य लोग भी कर रहे है। जिलाधिकारी ने कहा कि जब भी जिला प्रशासन की जो सहायता की आवश्यकता पड़ेगी प्रशासन उन्हें सहायता मुहैया करायेगा। रामकृष्ण कुटीर के स्वामी सोम देवानन्द अपने विचार रखते हुए कहा कि महान वैज्ञानिक बोसी सैन ने जिस भावना से इस संस्थान की स्थापना की थी वह आज निरन्तर आगे बढ़ रहा है। हम सब का प्रयास होना चाहिए उनकी भावना के अनुरूप ग्रामीण अंचल के काश्तकारो तक इसका लाभ पहुॅचे यह तभी सम्भव है जब हम टीम भावना से कार्य करेंगे।
इस अवसर पर संस्थान के निदेशक ए0के0 पटनायक ने संस्थान द्वारा किये जा रहे कार्यों पर प्रकाश डाला और उन्होंने कहा कि वर्तमान में किसानो तक मोबाईल एप विकसित कर उसका लाभ दिलाया जा रहा है साथ ही मडुवे और मक्के की नई प्रजाति को विकसित कर लिया गया है। फसलो को जंगली जानवरो से बचाने के लिए भी संस्थान अपने स्तर से शोध कर रहा है शीघ्र ही इसके अच्छे परिणाम दिखायी देंगे। उन्होंने जिला प्रशासन सहित अन्य लोगो द्वारा दिये जा रहे सहयोग के प्रति आभार व्यक्त किया। उन्होंने बताया कि विवेक सौलर ट्रार्यर भी विकसित किया गया है जो बन्दरों से अनेक सब्जियों को बचाने का काम करेगा। इसके साथ ही उन्होंने बताया कि विवेकानन्द कृषि स्वायत सहकारिता संस्था भगरतोला द्वारा टमाटर, मूली, शिमला मिर्च, खीरा, बैंगन सहित अन्य उत्पादो को उगाकर बाजार तक पहुॅचाया जा रहा है इन्हें संस्थान के वैज्ञानिक सलाह देते है। इसके अलावा जनपद चमोली के नीती माणा से आये बुनकरो सितारगंज से आये स्वयंसेवी संस्था के लोगो द्वारा भी प्रदर्शनी लगायी गयी जिन्हें सस्थान समय-समय पर सहयोग प्रदान कर रहा है। वैज्ञानिक के0के0 मिश्रा ने कहा कि जनपद के अन्य स्थानो में भी काश्तकारो को संस्थान सहयोग प्रदान कर रहा है। इस अवसर पर डा0 जे0के0एस0 बिष्ट विभागाध्यक्ष बीज प्रमाणन ने संस्थान द्वारा किये जा रहे कार्यों के बारे में बताते हुए आश्वस्त किया कि संस्थान किसानो के हित के लिए कार्य करेगा। इस अवसर पर पूर्व निदेशक एम0सी0 जोशी, डा0 जे0सी0 भटट, वैज्ञानिक सुन्दरियाल, डा0 दीवा भटट, लक्ष्मीकान्त, डा0 निर्मल कुमार सहित अनेक वैज्ञानिक, उपजिलाधिकारी विवेक राय, प्रशिक्षु डिप्टी कलैक्ट्रर मनीष बिष्ट, महाप्रबन्धक स्टैट बैंक, ललित लटवाल, रमेश बहुगुणा, कैलाश गुरूरानी, चन्दन लाल टम्टा सहित अनेक जनप्रतिनिधि व संस्थान के वैज्ञानिक व कर्मचारी उपस्थित थे। कार्यक्रम का संचालन कुशाग्रा जोशी ने किया। इस अवसर पर सभी अतिथियों को स्मृति चिन्ह देकर सम्मानित किया गया।

 

To Top