ग्रामीणों ने लगाया बैराज सफाई के नाम पर खनन का आरोप

Publish 14-05-2019 17:33:48


ग्रामीणों ने लगाया बैराज सफाई के नाम पर खनन का आरोप

गोपेश्वर/चमोली  (जगदीश पोखरियाल)। चमोली जिले के नीती घाटी के रैंणी और सुभांई के ग्रामीणों ने गांव के समीप संचालित ऋषि गंगा जल विद्युत परियोजना पर बैराज सफाई की अनुमति के नाम पर नदी में खनन करने का आरोप लगाया है। ग्रामीणों ने मामले में मंगलवार को उपजिलाधिकारी जोशीमठ के माध्यम से जिलाधिकारी को ज्ञापन भेजकर मामले की जांच कर कार्रवाई की मांग उठाई है। क्षेत्र पंचायत सदस्य संग्राम सिंह, वन पंचायत सरपंच सुरेंद्र सिंह राणा, बाली देवी और भरत सिंह का कहना है कि बीते वर्ष बरसात में नदी में मलबा आने से ऋषि गंगा जल विद्युत परियोजना के बैराज में मलबा भर गया था। जिसे लेकर तहसील प्रशासन की मध्यस्थ्ता में हुई बैठक में प्रशासन की ओर से कंपनी प्रबंधन को बैराज से मलवा निकालने की अनुमति प्रदान की गई थी। लेकिन अब कंपनी प्रबंधन बैराज से मलवा निकालने की अनुमति की आड लेकर ऋषि गंगा नदी में  रेत का खनन धडल्ले से किया जा रहा है। कहा गया कि कंपनी प्रबंधन से खनन के विषय में जानकारी मांगे जाने पर कंपनी कर्मचारियों की ओर से अनुमति होने की बात कही जा रही है। ग्रामीणों ने मामले मे जिला प्रशासन से जांच कर कार्रवाई की मांग उठाई है।

क्या कहते है अधिकारी
रैंणी और सुभांई के ग्रामीणों की ओर से क्षेत्र में संचालित ऋषि गंगा जल विद्युत परियोजना के नदी में खनन की शिकायत की गई है। जिसे लेकर टीम का गठन कर लिया गया है। आगामी 27 मई को मौके का निरीक्षण किया जाएगा। यदि कंपनी प्रबंधन की ओर से नदी में खनन किया जाना पाया जाता है। तो कंपनी प्रबंधन के विरुद्ध नियमानुसार कार्रवाई अमल में लाई जाएगी।
वैभव गुप्ता, उपजिलाधिकारी, जोशीमठ।

To Top