होटल ढ़ाबों में काम करते पाये गये तीन बच्चे, होटल स्वामियों विरूद्ध की प्राथमिकी दर्ज

Publish 18-03-2019 19:19:13


होटल ढ़ाबों में काम करते पाये गये तीन बच्चे, होटल स्वामियों विरूद्ध की प्राथमिकी दर्ज

गोपेश्वर/चमोली(जगदीश पोखरियाल)। चमोली जिले के गौचर बाजार में सोमवार को बाल श्रम को रोकने के लिए छापेमारी की गई। जिसमें होटल, ढ़ाबों में तीन नाबालिक पाये गये जिन्हें उनके परिवार को सौंपने की कार्रवाई की जा रही है साथ जिन होटल, ढाबों में नाबालिक पाये गये उनके विरूद्ध गौचर चैकी में प्राथमिकी भी दर्ज की गई है।


सोमवार को श्रम विभाग, बाल कल्याण समिति, पुलिस विभाग एवं हिमाद समिति के माध्यम से संचालित चाइल्ड लाइन सेवा 1098  की संयुक्त टीम ने गौचर बाजार में होटलों व ढाबों में छापेमारी की इस दौरान तीन होटलों में नाबालिक बच्चें एवं किशोर कार्य करते हुए पाए गए इस दौरान श्रम प्रर्वतन अधिकारी जयपाल भेंटवाल ने नियोक्ताओं का बाल श्रम अधिनियम 1986 संशोधित अधिनियम 2016 के तहत चालान करते हुए भविष्य में होटल, ढाबों तथा अन्य व्यापारिक प्रतिष्ठानों में नाबालिक बच्चों तथा किशोंरों से कार्य न करवाने की हिदायत दी गई। इस अवसर पर बाल कल्याण समिति की अध्यक्षा प्रभा रावत ने कहा कि बाल श्रम अधिनियम के तहत बच्चों एवं किशोरांे से कार्य करवाना गंभीर अपराध है। कहा कि समय समय पर जनपद के विभिन्न हिस्सों में छापेमारी की कार्यवाही जारी रहेगी।


इस अवसर पर चाइल्ड लाइन सेवा 1098 के निदेशक उमाशंकर बिष्ट ने  कहा कि बाल संरक्षण आयोग बच्चों के हितों को देखते हुए कार्रवाई अमल में लाई जा रही है। बताया कि जिन होटलों में नाबालिक बच्चे काम करते हुए पाये गये उनके विरूद्ध गौचर चैकी में  प्राथमिकी दर्ज की गई है। इस टीम में एसआई शिवदत्त जमलोकी, कांस्टेबल सोनी चैहान, सत्येन्द्र विश्वकर्मा, जिला विधिक सेवा प्राधिकरण के जयपाल आर्य, चाइल्ड लाइन टीम सदस्य दीपक रावत, नीरज नेगी आदि मौजूद थे।

 

To Top