थराली ब्लॉक में दम तोड़ती स्वास्थ्य सेवाऐं, ग्रामीण परेशान

Publish 06-04-2019 19:39:23


थराली ब्लॉक में दम तोड़ती स्वास्थ्य सेवाऐं, ग्रामीण परेशान

गोपेश्वर(जगदीश पोखरियाल)।  चमोली जिले के थराली ब्लॉक के गांवों के ग्रामीणों को बेहतर स्वास्थ्य सेवा देने के लिये स्वास्थ्य विभाग ने यहां सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र की स्थापना की गई है, लेकिन केंद्र में चिकित्सकों के साथ ही अन्य कर्मचारियों का भी भारी टोटा बना हुआ है। जिससे ब्लॉक के ग्रामीणों बीमारी के साथ ही सुरक्षित प्रसव के लिये भी बाहरी क्षेत्रों में जाना पड रहा है। थराली विकास खंड भौगोलिक रुप से विषमताओं वाला ब्लॉक है। थराली विकास खंड की  40 हजार से अधिक की आबादी को स्वास्थ्य सेवा देने के लिये विभाग की ओर से यहां सीएचसी का संचालन किया जा रहा है। केंद्र के संचालन के लिये विभाग ने यहां जनरल सर्जन, फिजीशियन, बाल रोग विशेषज्ञ, स्त्री रोग विशेषज्ञ, ईएनटी सर्जन और दंत रोग विशेषज्ञ के पद सृजित किये गये हैं, लेकिन छह पदों के सापेक्ष यहां एक संविदा चिकित्सक की तैनाती की गई है। वहीं केंद्र में चार स्टॉफ नर्स और सात वार्डबॉय के सापेक्ष मात्र दो वार्ड बॉय तैनात है। केंद्र में विभाग ने बेहतर सुविधा के लिये एक्सरे मशीन लगाई गई है। मगर तकनीशियन न होने से ग्रामीणों को एक्सरे की सुविधा के लिये 100 किमी दूर कर्णप्रयाग जाना पड़ रहा है। केंद्र पर अल्ट्रासाउंड  मशीन और ब्लड बैंक की व्यवस्था नहीं है। ऐसे में संस्थागत प्रसव की व्यवस्थाएं न होने से गर्भवती महिलाओं को बाहरी क्षेत्रों का रुख करना पडता है। इस स्थिति में कई बार गर्भवती महिलाएं या शिशु की मौत के भी कई मामले सामने आये हैं। स्थानीय निवासी मोहन गिरी, उमेश प्रसाद और कुंदन सिंह का कहना है कि कई बार विभागीय अधिकारियों से चिकित्सकों और कर्मचारियों की तैनाती की मांग की गई लेकिन वर्तमान तक स्थिति जस की तस बनी हुई है।


क्या कहते है अधिकारी
सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में चिकित्सकों सहित अन्य कर्मचारियों की कमी के विषय में  उच्चाधिकारियों को जानकारी दी गई है। यदि उच्चस्तर से चिकित्सालय में सभी पदों पर चिकित्सकों की तैनाती होती है। तो ग्रामीणों को स्वास्थ्य सेवाओं के लिये भटकना नहीं पडेगा।
डॉ. नवनीत, प्रभारी चिकित्सक, सीएचसी, थराली।

To Top