आदर्श इंटर कॉलेज में शिक्षकों का टोटा, गुणवत्ता सुधार के सरकारी दावे हवाई

Publish 18-02-2019 19:08:52


आदर्श इंटर कॉलेज में शिक्षकों का टोटा, गुणवत्ता सुधार के सरकारी दावे हवाई

गोपेश्वर/चमोली(जगदीश पोखरियाल)।  सरकार की ओर से शिक्षा की गुणवत्ता सुधार के लिये बनाये जा रहे आदर्श विद्यालय नाम परिवर्तन से आगे नहीं बढ पा रहे हैं। चमोली जिले के पोखरी ब्लॉक का राजकीय इंटर कालेज रडुवा सरकार की इस अनदेखी को जग जाहिर कर रहा है। यहां विद्यालया में लंबे समय से चार प्रवक्ताओं और तीन सहायक अध्यापकों के पद रिक्त पडे हुए हैं। ऐसे में सरकारी विद्यालयों में शिक्षा की गुणवत्ता सुधार के सरकारी दावे हवा-हवाई साबित हो रहे हैं।
जीआईसी रडुवा में वर्तमान में 450 से अधिक छात्र-छात्राएं अध्ययनरत हैं। यहां शिक्षा की गुणवत्ता सुधार के लिये विद्यालय को आदर्श इंटर कॉलेज की श्रेणी में रखा गया हैं। लेकिन विद्यालय में बीते दो वर्षों से भूगोल, रसायन विज्ञान, हिन्दी व अग्रेजी विषय के प्रवक्ताओं के साथ ही हिन्दी, संस्कृत तथा गृह विज्ञान के सहायक अध्यापकों के पद रिक्त पडे हुए हैं। जिससे यहां अध्ययनरत छात्र-छात्राएं स्वाध्याय करने को मजबूर हैं। पीटीए अध्यक्ष कान्ता नेगी, संदीप बत्र्वाल, जयपाल सिंह वत्र्वाल, गजेन्द्र नेगी और बलवीर सिंह राणा का कहना है कि मामले में शिक्षा विभाग के अधिकारियों के साथ ही जिलाधिकारी से भी शिक्षकों की तैनाती की मांग उठाई गई। लेकिन वर्तमान तक स्थिति जस की तस बनी हुई है।
क्या कहते है अधिकारी
जिले में प्रवक्ता और सहायक अध्यापकों की रिक्त पदों की जानकारी उच्चाधिकारियों को दी गई है। शासन की ओर से जिले में शिक्षकों की तैनाती के बाद वरियता के अधार पर जीआईसी रडुवा में शिक्षकों की तैनाती की जाएगी।
आशुतोष भंडारी, जिला शिक्षा अधिकारी (माध्यमिक), चमोली।

To Top