*** लाइव एसकेजी न्यूज़ पर आप अपने लेख, कविताएँ भेज सकते है सम्पर्क करें 9410553400 हमारी ईमेल है liveskgnews@gmail.com *** *** सेमन्या कण्वघाटी समाचार पत्र, www.liveskgnews.com वेब न्यूज़ पोर्टल व liveskgnews मोबाइल एप्प को उत्तराखंड, उत्तर प्रदेश, मध्यप्रदेश राजस्थान, दिल्ली सहित पुरे भारत में जिला प्रतिनिधियों, ब्यूरो चीफ व विज्ञापन प्रतिनिधियों की आवश्यकता है. सम्पर्क 9410553400 *** *** सभी प्रकाशित समाचारों एवं लेखो के लिए सम्पादक की सहमती जरुरी नही है, किसी भी वाद विवाद की स्थिति में न्याय क्षेत्र हरिद्वार न्यायालय में ही मान्य होगा . *** *** लाइव एसकेजी न्यूज़ के मोबाइल एप्प को डाउनलोड करने के लिए गूगल प्ले स्टोर से सर्च करे liveskgnews ***

खरपतवार से ही बनाएं जैविक खरपतवार नाशक

01-08-2019 23:18:27

देहरादून : जैविक विधि से फसल के साथ खड़ी खरपतवार का इलाज संभव है. किसी आम रासायनिक खरपतवार नाशक की ही तरह पूर्णतः जैविक विधि से कैसे आप खरपतवार नाशक बनाएं आये देखें

1. सबसे पहले जिस भी खरपतवार का अंत चाहते हैं मुट्ठी भर या फिर गठरी भर खरपतवार निकाल लें और मिटटी साफ़ कर के उसकी नमी को सूखा दें
2. अब उसी खरपतवार को भून करके जलाकर उसका राख बना लें. राख को ढंग से महीन कर लें कूट करके
3. 100 ग्राम तक राख हो जाने के बाद आधा किलो देसी गाय का अथवा ताज़ा गाय का दूध लें. इसके अलावा 100 ग्राम चीनी ले लें. तीनो चीज़ों का मिश्रण घोल के रूप में बना लें
4. इस घोल को ढंग से घोलकर एक बोतल में भर लें. बोतल को चाहें तो पानी से आधा भर लें .
5. अब बहत्तर (72) घंटो तक बोतल को ढंग से जब समय मिलें हिलाते रहे और ढक्कन बंद करके रखे रहे
6. तीन दिन के बाद इस घोल को 100  लीटर पानी में घोलकर फसल पर छिड़क दें जैसे छिड़काव करा जाता है.

आप देखेंगे की जिस खरपतवार की राख आपने ली है उसी-उसी को यह घोल समाप्त करके सुखना आरम्भ कर देगा. इसका परिणाम भी 2 घंटे के बाद दिखना आरम्भ हो जाएगा. इस बात का ख्याल रहे की जिस भी चीज़ का आप राख प्रयोग करेंगे इस विधि में उसी चीज़ पर यह जैविक घोल अपना असर दिखायेगा इसलिए कृपया अपनी मुख्या फसल के पौध खरपतवार के साथ न मिलाएं.