पहाड़ी क्षेत्रों में आम के बाग करें विकसित, यथा स्थान (इन-सीटू ) ग्राफ्टिग कर

Publish 13-02-2019 23:04:30


पहाड़ी क्षेत्रों में आम के बाग करें विकसित, यथा स्थान (इन-सीटू ) ग्राफ्टिग कर


खराब मौसम को देखते हुए केएमवीएन ने उठाया कदम
अल्मोड़ा।
प्रसिद्ध कैलाश मानसरोवर यात्रा का आठवां दल मंगलवार रात्रि आठ बजे होली डे होम पहुंचा। खराब मौसम एवं गुंजी- छियालेख में जीरो विजीबिलीटी के चलते दल को एहतियातन अल्मोड़ा में ही रोक दिया गया है। 58 सदस्यीय इस दल में 17 राज्यांे के 44 पुरूष 14 महिलाएं शामिल हैं।
गौरतलब है कि पिथौरागढ़ के छियालेख में मौसम के अत्यधिक खराब होने के कारण कैलास यात्रियों को पिक करने वालों सेना के एमआई-17 हॉलिकॉफ्टर उड़ान नहीं भर पाए थे। जिसके चलते 57 सदस्यीय सातवां दल पिथौरागढ़ से अगले पड़ाव गुंजी के लिए रवाना नहीं हो सके। हालातों को देखते हुए केएमवीएन ने यात्रियों की सुविधा को देखते हुए दल को बुधवार को अल्मोड़ा में ही रोक दिया। केएमवीएन की प्रबंधक शीला साह ने बताया कि पिथौरागढ़ और गुंजी में छटा व सातवें दल के फंसे होने के कारण आठवें दल को अल्मोड़ा में ही रोक दिया गया है। उन्होंने बताया कि इस दल में 17 राज्यांे के 44 पुरूष 14 महिलाएं सहित कुल 58 सदस्य हैं। जिसमें सबसे कम उम्र 22 वर्ष कर्नाटक के अशीका रवि कुमार एवं सबसे अधिक उम्र 68 वर्ष गुजरात यशव़त्रो नटवरलाल घेले हैं। उन्होंने बताया कि दल के साथ दो लाइजनिंग ऑफिसर रामास्वामी गणेशन एवं अवनिश शुक्ला है। इस दल में आंध्र-प्रदेश के एक, असम दो, बिहार एक, चड़ीगढ़ एक, दिल्ली पांच, गुजरात आठ, कर्नाटक पॉच, झारखंड एक, केरला एक, मध्यप्रदेश पांच, महाराष्ट्र छह, मेघालय दो, पंजाब एक, राजस्थान नौ, तमिलनाड व उत्तर प्रदेश दो एवं प. बंगाल 3 यात्री शामिल हैं। वहीं, केएमवीएन के कार्डिनेटर षष्टी दत्त भट्ट ने बताया कि छियालेख से गुंजी तक खराब मौसम व कोहरें के चलते सेना के हॉलिकॉफ्टर उड़ान नहीं भर पा रहे है। उन्होंने बताया कि जैसे ही सातवॉ दल छियालेख से गुंजी पहुंच जाएगा तो आठवें दल को यहॉ से पिथोरागढ़ के लिए रवाना कर दिया जाएगा।

 

To Top