ब्रेकिंग न्यूज़ !
    *** लाइव एसकेजी न्यूज़ पर आप अपने लेख, कविताएँ भेज सकते है सम्पर्क करें 9410553400 हमारी ईमेल है liveskgnews@gmail.com *** *** सेमन्या कण्वघाटी समाचार पत्र, www.liveskgnews.com वेब न्यूज़ पोर्टल व liveskgnews मोबाइल एप्प को उत्तराखंड, उत्तर प्रदेश, मध्यप्रदेश राजस्थान, दिल्ली सहित पुरे भारत में जिला प्रतिनिधियों, ब्यूरो चीफ व विज्ञापन प्रतिनिधियों की आवश्यकता है. सम्पर्क 9410553400 *** *** सभी प्रकाशित समाचारों एवं लेखो के लिए सम्पादक की सहमती जरुरी नही है, किसी भी वाद विवाद की स्थिति में न्याय क्षेत्र हरिद्वार न्यायालय में ही मान्य होगा . *** *** लाइव एसकेजी न्यूज़ के मोबाइल एप्प को डाउनलोड करने के लिए गूगल प्ले स्टोर से सर्च करे liveskgnews ***

    प्रदेश में मनायी गयी नरक चतुर्दशी , जाने नरक चतुर्दशी के बारे में यह भी

    06-11-2018 20:43:38

    उत्तर प्रदेश (रघुनाथ प्रसाद शास्त्री)। आज पूरे प्रदेश में नरक चतुर्दशी का पर्व मनाया गया घर के बाहर लोगों ने दीपक जलाए यह कार्तिक कृष्ण चतुर्दशी को नरक चतुर्दशी के रूप में मनाया जाता है। इस दिन भगवान ने नरकासुर का वध किया था। इसलिए इस दिन को नरक चतुर्दशी कहा जाता है।  ज्योतिष के जानकार  रघुनाथ प्रसाद शास्त्री ने बताया आज चतुर्दशी तिथि पांच नवंबर को 11.17 बजे लगी थी, जो छह नवंबर को 10.06 बजे रात तक रही। इस बार नरक चतुर्दशी छह नवंबर को पूरे प्रदेश में मनाई गयी । तिथि विशेष पर सायंकाल घर से बाहर चार बत्तियों वाला दीपक यमराज के निमित्त दान करना चाहिए। प्रदोष काल में तिल के तेल से भरे दीपों को यम के अतिरिक्त ब्रह्मा-विष्णु-महेश आदि के मंदिरों के साथ मठ, बाग-बगीचों, बावली-गली इत्यादि में भी दीपदान करना चाहिए। मान्यता है कि इससे असमय मृत्यु से निजात और नरक से बचाव होता है। साथ ही जीवन सुखमय व्यतीत होता है।
    दीपावली पर्व के ठीक एक दिन पहले मनाई जाने वाली नरक चतुर्दशी को छोटी दीवाली, रूप चौदस और काली चतुर्दशी भी कहा जाता है। मान्यता है कि कार्तिक कृष्ण चतुर्दशी के विधि-विधान से पूजा करने वाले व्यक्ति को सभी पापों से मुक्ति मिल जाती है। इसी दिन शाम को दीपदान की प्रथा है जिसे यमराज के लिए किया जाता है। इस पर्व का जो महत्व है उस दृष्टि से भी यह काफी महत्वपूर्ण त्योहार है। इस रात दीये जलाने की प्रथा के संदर्भ में कई पौराणिक कथाएं और लोकमान्यताएं हैं। एक कथा के अनुसार आज के दिन ही भगवान श्रीकृष्ण ने अत्याचारी और दुराचारी दुरंत असुर नरकासुर का वध किया था और सोलह हजार एक सौ कन्याओं को नरकासुर के बंदी गृह से मुक्त करा उन्हें सम्मान प्रदान किया था। इस उपलक्ष्य में दीयों की बारात सजाई जाती है।


    इस दिन के व्रत और पूजा के संदर्भ में एक दूसरी कथा यह है कि रंति देव नामक एक पुण्यात्मा और धर्मात्मा राजा थे। उन्होंने अनजाने में भी कोई पाप नहीं किया था लेकिन जब मृत्यु का समय आया तो उनके समक्ष यमदूत आ खड़े हुए। यमदूत को सामने देख राजा अचंभित हुए और बोले मैंने तो कभी कोई पाप कर्म नहीं किया फिर आप लोग मुझे लेने क्यों आए हो क्योंकि आपके यहां आने का मतलब है कि मुझे नर्क जाना होगा। आप मुझ पर कृपा करें और बताएं कि मेरे किस अपराध के कारण मुझे नरक जाना पड़ रहा है। यह सुनकर यमदूत ने कहा कि हे राजन् एक बार आपके द्वार से एक बार एक ब्राह्मण भूखा लौट गया था,यह उसी पापकर्म का फल है। इसके बाद राजा ने यमदूत से एक वर्ष समय मांगा। तब यमदूतों ने राजा को एक वर्ष की मोहलत दे दी। राजा अपनी परेशानी लेकर ऋषियों के पास पहुंचे और उन्हें अपनी सारी कहानी सुनाकर उनसे इस पाप से मुक्ति का उपाय तब ऋषि ने उन्हें बताया कि कार्तिक मास की कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी का व्रत करें और ब्राह्मणों को भोजन करवा कर उनके प्रति हुए अपने अपराधों के लिए क्षमा याचना करें। राजा ने वैसा ही किया जैसा ऋषियों ने उन्हें बताया। इस प्रकार राजा पाप मुक्त हुए और उन्हें विष्णु लोक में स्थान प्राप्त हुआ। उस दिन से पाप और नर्क से मुक्ति हेतु भूलोक में कार्तिक चतुर्दशी के दिन का व्रत प्रचलित है।
     

    योग्य नहीं माने प्रस्तावित छह नाम , ऐसे करें यम पूजा
    नरक चतुर्दशी के दिन सूर्योदय से पहले शरीर पर तेल की मालिश करके नहाना शुभ माना जाता है। स्‍नान के दौरान अपामार्ग पौधे की टहनियों को अपने ऊपर से सात बार घुमाकर सिर पर रखना होता है। साथ थोड़ी सी मिट्टी भी रखी जाती है। इसके बाद पानी डालकर उसे बहा दि‍या जाता है। अंत में पानी में तिल डालकर यमराज को तर्पण किया जाता है। इसके बाद सांध्‍य बेला में घर के बाहर तेल का एक दीपक जलाकर यमराज का ध्‍यान किया जाता है। यमराज के लिए किये गए इस दीपदान को लेकर माना जाता है कि इसकी रोशनी से पितरों के रास्‍ते का अंधेरा दूर हो जाता है।