खरीफ की फसल में केवल बाजरा ही एक सहारा

Publish 27-10-2018 20:15:34


खरीफ की फसल में केवल बाजरा ही एक सहारा

फतेहपुर चौरासी उन्नाव (रघुनाथ)| क्षेत्र के किसानों ने बताया कि इस वर्ष खरीफ की फसल में केवल बाजरा ही एक सहारा बना है। बताते चलें कि इस वर्ष खरीफ की फसल में मक्का तो कहीं बाढ़ में चली गई तो कहीं बारिश अधिक होने की वजह से समाप्त हो गई मूंगफली तो खेतों में सुख ही गई दीमक लगने की वजह से मूंगफली के किसान बताते हैं कि एक बीघे में बहुत ज्यादा अगर निकलेगी तो एक कुंटल निकल सकती है इससे ज्यादा निकलने की कोई गुंजाइश नहीं रही बात धान की तो धान किसान बताते हैं की जहां बाढ़ का पानी आ गया था वहां के धान अधिक मात्रा में तो डूब ही गए थे जो बचे हुए थे उसमें कई तरीके के रोग लगने की वजह से वह समाप्त हो गए अब उन किसानों को सिर्फ खरीफ की फसल का फायदा मिल सकता है जिन्होंने अपने खेत में बाजरा बो रखा है बाजरा की फसल खरीफ की फसलों में सबसे अच्छी दिख रही है किसान बताते हैं कि इस फसल में लगायत ज्यादा मात्रा में नहीं लगती है ना ही इसमें ज्यादा मेहनत करनी पड़ती है दो से तीन बार सिंचाई करनी पड़ सकती है बारिश ना हो तो और निराई गुड़ाई का भी कोई खास महत्व इसमें नहीं होता है । इसकी पैदावार प्रति बीघे के हिसाब से 15 से 20 कुंतल हो सकता है जिसकी कीमत बाजार में पंद्रह सोलह सौ रुपए प्रति कुंतल है।

To Top