विशेष कोटद्वार नगर निगम चुनाव : राजनैतिक पंडितो ने किये चुनाव के हार- जीत के आंकलन

Publish 19-11-2018 18:30:23


विशेष कोटद्वार नगर निगम चुनाव : राजनैतिक पंडितो ने किये चुनाव के हार- जीत के आंकलन

कोटद्वार/पौड़ी ।   देवभूमि उत्तराखंड के गढ़वाल का द्वार कहे जाने वाले कोटद्वार नगर निगम के चुनाव में त्रिकोणीय  मुकाबले के बीच रविवार को 98 पोलिंग बूथों पर हुए चुनाव शांतिपूर्ण तरीके से निपट गए। इसी के साथ मेयर पद के नौ और 40 वार्डों के लिए 257 प्रत्याशियों का भाग्य मतपेटियों में बंद हो गया। मतदान समाप्त होने के साथ ही चुनावी पंडितो के द्वारा अब जीत-हार के कयास लगने शुरू हो गए हैं। कोटद्वार नगर निगम में निर्दलीय बीजेपी के बागी मेयर पद के उम्मीदवार ने अफवाहों के बाजार में बढत बना रखी। वही दूसरे प्रत्याशियों और उनके समर्थकों ने हर बूथ से फीडबैक लेना शुरू कर दिया है।

देर शाम को मेयर और वार्ड पद के प्रत्याशियों के चुनाव दफ्तर और आवास पर उनके समर्थकों की भीड़ जुटनी शुरू हो गई है। आपको बताते चले कि कोटदार के मेयर का प्रभाव कोटद्वार के विधायक से कम नहीं रहेगा। यही वजह रही कि रविवार को हुए चुनाव के लिए मेयर पद पर कांग्रेस, भाजपा और निर्दलीय प्रत्याशियों ने अपनी पूरी ताकत झोंकी। रविवार को कांग्रेस प्रत्याशी हेमलता और उनके पति पूर्व मंत्री सुरेंद्र सिंह नेगी, भाजपा प्रत्याशी नीतू रावत और उनके पति लैंसडौन के विधायक दलीप रावत, भाजपा से बागी हुए धीरेंद्र चौहान और उनकी पत्नी निर्दलीय प्रत्याशी विभा चौहान, शशि नैनवाल, सुधा सती और बसपा प्रत्याशी शोभा बहुगुणा भंडारी , उत्तराखंड क्रांति दल की प्रत्याशी उषा सजवाण पूरे दिन बूथों पर घूमकर मतदान का जायजा लेते रहे। डबल बैलेट पेपर होने के कारण धीमी गति से चले मतदान के कारण कई बूथों पर रात को नौ बजे तक वोटिंग चलती रही। मतदान के बाद से कोटद्वार के राजनैतिक पंडितो के द्वारा मतदान के उपर हार जीत का गणित लगाना शुरू कर दिया है अब पंडितो के गणित कितने सटीक है इसका खुलासा तो कल शाम तक हो ही जाएगा  ।

To Top