बागियों ने बिगाड़े भाजपा के गणित

Publish 28-10-2018 15:02:33


बागियों ने बिगाड़े भाजपा के गणित

कोटद्वार ।  देवभूमि उत्तरखंड के गढ़वाल का द्वार कहे जाने वाले कोटद्वार में भाजपा की मुश्किलें कम होने का नाम नही ले रही है  । नगर निगम कोटद्वार के महापौर चुनाव को लेकर मचा घमासान अब दिलचस्प मोड़ की ओर घुम गया है। जंहा गत दिवस आपन्तियों के निस्तारण के बाद 11 प्रत्याशीयो के नामांकन सही पाये गये वंही अब दो ने नाम वापस ले लिया है। इन में सबसे ज्यादा भाजपा के बागी है जो मेयर पद पर भाग्य अजमा रहे है। सूबे के संगठन में सबसे मजबूत स्तम्भ माने जाने वाले सहकारीता व उच्च शिक्षा मंत्री डा, धन सिंह रावत का भी बागीयो को मनाने में पसीना छूट गये।  कोई भी बागी भाजपा संगठन के पदाधीकारीयो व मंत्रीयो तक कि बात नही मान रहे है। भाजपा की बागी प्रत्याशी विभा चौहान के घर पंहुचे, डॉ. धन रावत  उनके पति और भाजपा नेता धीरेन्द्र चौहान को नहीं मना पाए, धीरेन्द्र  चौहान  ने नाम वापस लने से साफ मना कर दिया है यही हाल शशी नैनवाल, सुधा सती आदी बागीयो का भी है। जिससे भाजपा प्रत्याशी नीतू रावत के सामने मुश्किले खडी हो गई।

वंही भाजपा से बागी हुए धीरेन्द्र चौहान का कहना है कि पार्टी के नेता उनके घर आये थे और मेयर पद से नाम वापस लेने के लिए कह रहे थे। लेकिन पत्नी विभा चौहान  किसी भी हाल में मेयर पद से अपना नाम वापस नही लिया। उन्होंने कहा भाजपा के द्वारा उनके साथ तीन बार विश्वासघात किया गया है,और हमेशा बाहरी व्यक्तियो को लाकर चुनाव लडवाया जाता है। भाजपा भी परिवारवाद को बढावा दे रही है। जिसका वे पुरजोर विरोध कर रहे है। वंही भाजपा के बागीयो को मनाने पंहुचे डॉ. धन सिंह रावत का कहना है कि नगर निकाय चुनाव में शनिवार नाम वापसी का आखिरी दिन था और जो भाजपा से अलग होकर तीन निर्दलीय प्रत्याशी चुनाव लड रहे है। इनसे वार्ता की गयी कहा हमारा नैतिक दायित्व है कि वरिष्ठ कार्यक्रताओ का समझया जाये ।  चुनाव में भाजपा के बागीयो को अब प्रदेश प्रभारी समझा पाते है या नही यह देखना होगा क्योकि सोमवार को भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष एवं प्रदेश प्रभारी श्यामा जाजू कोटद्वार पहुँच रहे है ।

To Top